hadi14

hadi14

देश की सर्व्वोच अदालत ने सांप्रदायिक ताकतों के मुंह पर करारा तमाचा देते हुए हादिया उर्फ़ अखिला को आजाद कर दिया है.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस धनंजय वाई चंद्रचूड़ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने हादिया को पुलिस सुरक्षा देते हुए माँ-बाप की कस्टडी से आजाद कर दिया है. साथ ही तमिलनाडु के सलेम होम्योपैथी को हादिया की रुकी हुई पढ़ाई को पूरा कराने का आदेश दिया.

कोर्ट ने केरल पुलिस को निर्देश दिया कि यह सुनिश्चित किया जाए कि हदिया को सादे कपड़े पहने पुलिस बलों के साथ सलेम मेडिकल कॉलेज सुरक्षित पहुंचाया जाए. इसके अलावाकोर्ट ने सलेम स्थित होम्योपैथिक कॉलेज के डीन को हादिया का गार्जियन यानी अभिभावक नियुक्त किया है.

कोर्ट ने ये आदेश पेशी के दौरान हदिया की और से बातचीत में अपनी हाउस इंटर्नशिप पूरी करने और होम्योपेथिक डॉक्टर बनने की इच्छा बताये जाने के बाद दिया है. दरअसल, सीजेआई जस्टिस दीपक मिश्रा ने हादिया से पूछा था कि आपके भविष्य के प्लान क्या है, हादिया ने कहा कि मुझे आजादी चाहिए.

उन्होंने आगे सवाल किया था कि क्या आप राज्य सरकार के खर्चे पर अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती हैं? जवाब में हादिया ने कहा- ? मैं जारी रखना चाहती हूं कि लेकिन राज्य के खर्चे पर नहीं जबकि मेरे पति इसका खर्चा उठा सकते हैं.”

ऐसे में अब कोर्ट ने कॉलेज और विश्वविद्यालय को निर्देश दिया कि हादिया को फिर से प्रवेश दिया जाए और उसे छात्रावास की सुविधा उपलब्ध कराई जाए.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें