पुलवामा हमले को लेकर मंगलवार को सेना, पुलिस और सीआरपीएफ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें ले. ज. केजेएस ढिल्लन (जीओसी चिनार कॉर्प्स) ने कहा कि पुलवामा अटैक और सोमवार को एनकाउंटर में शहीद हुए सभी जवानों को मैं नमन करता हूं. एनकाउंटर में 2 पाकिस्तानियों के साथ एक स्थानीय आतंकी की भी मौत हुई है.

सेना ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर की माताओं से अपील करता हूं कि अपने बच्चों को समझाएं और गलत रास्ते पर चले गए लड़कों को सरेंडर करने के लिए बोलें. हम सरेंडर करनेवालों के लिए कई तरह के अच्छे कार्यक्रम चला रहे हैं, लेकिन आतंकी वारदातों में शामिल रहनेवालों के लिए कोई रहमदिली नहीं दिखायी जाएगी.

Loading...

15 कोर के जीओसी केजेएस ढिल्लन ने कहा, ‘शहीदों के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं है. कश्मीर में जो बंदूक उठाएंगे वो मारे जाएंगे. 100 घंटे के भीतर हमने जम्मू कश्मीर में जैश ए मोहम्मद की टॉप लीडरशिप को मार गिराया है.’ उन्होंने जम्मू-कश्मीर की महिलाओं से अपील करते हुए कहा कि वह अपने बच्चों को समझाएं और उन्हें सरेंडर करने को कहें. उन्होंने कहा कि सेना के पास सरेंडर पॉलिसी है, अब अगर जो भी सेना के खिलाफ बंदूक उठाएगा वो मारा जाएगा. उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते हैं कि कोई भी नागरिक घायल हुए. इस हमले में और कौन शामिल थे और क्या प्लान थे, यह हम शेयर नहीं कर सकते.

ढिल्लन ने आगे कहा कि मैं सभी को आश्वस्त करता हूं कि सभी तरह की इंटेलिजेंस पर हम काम कर रहे हैं. कश्मीर के आईजी एसपी पाणि ने कहा कि कश्मीर में युवाओं की आतंकियों के नियुक्ति पिछले कुछ महीनों में कम हुई है. घाटी में जो भी घुसपैठ करेगा वह जिंदा नहीं बचेगा.

सीआरपीएफ के आईजी जुल्फिकार हसन ने कहा कि शहीद हुए जवानों के परिवार से कहना चाहूंगा कि आप अपने को अकेले न समझें. आपके लिए हर वक्त हम खड़े हैं. देश के विभिन्न हिस्सों में पढ़ने वाले कश्मीरी बच्चों के लिए भी हम हेल्पलाइन चला रहे हैं, ताकि उन्हें अप्रिय स्थिति का सामना न करना पड़े.

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें