Sunday, June 20, 2021

 

 

 

स्टैचू ऑफ यूनिटी के डेली कलेक्शन अकाउंट से 5.25 करोड़ रुपये गायब, मामला दर्ज

- Advertisement -
- Advertisement -

द इंडियन एक्सप्रेस ने बुधवार को बताया कि गुजरात के नर्मदा जिले की पुलिस ने स्टैचू ऑफ यूनिटी के डेली कलेक्शन अकाउंट से 5.25 करोड़ रुपये गायब होने पर प्रबंधन कंपनी के कर्मचारियों पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

स्थानीय केवडिय़ा पुलिस स्टेशन में एचडीएफसी बैंक की वडोदरा शाखा के प्रबंधक द्वारा दायर की गई शिकायत में राइटर बिज़नेस सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड को अक्टूबर 2018 से मार्च 2020 के बीच कथित रूप से पैसे निकालने का आरोप लगाया गया है।

शिकायत में कहा गया है कि एचडीएफसी बैंक, जिसने स्टैचू ऑफ यूनिटी प्रशासन को ऑफ़लाइन टिकटिंग और पार्किंग शुल्क की सेवाएं प्रदान की थी, ने राइट टू बिज़नेस की डोरस्टेप कैश कलेक्शन सुविधा को आउटसोर्स किया था।

पर्यटन स्थल के एक अधिकारी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “प्राप्त नकदी की रसीद स्टैच्यू ऑफ यूनिटी प्रशासन को जारी की जाती है और समय-समय पर बैंक खाते में जमा की गई नकदी जमा के साथ समेट ली जाती है।” प्रविष्टियों के मिलान के दौरान, स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी के ऑडिटरों ने एचडीएफसी बैंक की ओर से राइटर बिज़नेस द्वारा प्रस्तुत रसीदों और वास्तविक प्रविष्टियों के बीच एक विसंगति देखी।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के एक अधिकारी ने कहा, “5.25 करोड़ रुपये की राशि गायब थी, हालांकि हमारे रिकॉर्ड में प्राप्तियों से पता चला है कि एचडीएफसी बैंक के एजेंट को यह राशि सौंप दी गई थी।” जिसके बाद इस मामले को बैंक के साथ उठाया गया था, जिसने लगातार मामले की जांच की।”

नर्मदा जिला कलेक्टर डीए शाह, जो प्रतिमा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भी हैं, ने कहा कि जिला प्रशासन, एचडीएफसी बैंक और स्टैचू ऑफ यूनिटी के अधिकारियों से मिलकर एक समिति बनाई गई थी। शाह ने कहा कि समिति ने रिकॉर्ड की जांच की और निष्कर्ष निकाला कि नकदी बैंक को सौंप दी गई थी। उन्होंने यह भी कहा कि एचडीएफसी बैंक ने कैश कलेक्शन के लिए राइटर बिजनेस को नियुक्त किया था और पर्यटन स्थल पर प्रशासन का इससे कोई लेना-देना नहीं था।

केवडिया पुलिस अधीक्षक वाणी दुधत ने कहा कि स्टैचू ऑफ यूनिटी प्रशासन ने उन्हें दैनिक रसीदें और लेनदेन पर्ची उपलब्ध कराई हैं, जिनकी जांच की जा रही है। उन्होंने कहा, “हम एजेंसी [राइटर बिजनेस] के कर्मचारियों को उक्त अवधि के दौरान उन कर्मचारियों की पहचान करने के बाद उनसे पूछताछ करने के लिए बुलाएंगे, जिन्होंने पैसे को संभाला था।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles