Saturday, July 24, 2021

 

 

 

कुतुबुद्दीन अंसारी की दरियादिली – गुजरात दंगों के पोस्टर बॉय की दुकान का किया उद्घाटन

- Advertisement -
- Advertisement -

सिर में भगवा पट्टी और हाथ में लोहे की रॉड लिए साल 2002 में गुजरात में गोधरा दंगों में मुसलमानों की जान के प्यासे अशोक मोची उस वक्त के पोस्टर बॉय थे। वहीं कुतुबुद्दीन अंसारी की दंगाइयों से रहम की भीख मांगते हुए तस्वीर दुनिया भर में वायरल हुई थी।

हालांकि अब दोनों ने नई शुरुआत की है। 45 वर्षीय अशोक परमार उर्फ अशोक मोची ने जूते की दुकान खोली है। खास बात यह रही कि इस दुकान का उद्घाटन करने गोधरा दंगे में पीड़ितों का चेहरा बने कुतुबद्दीन अंसारी पहुंचे। अंसारी ने शुक्रवार को अशोक की दुकान का फीता काटा। इस दौरान दोनों एक दूसरे के गले मिले।

अशोक मोची ने अपनी दुकान का नाम रखा है ‘एकता चप्पल घर।’ अशोक का कहना है कि दंगों के बाद उनकी छवि इस तस्वीर ने बहुत ख़राब की है। इसीलिए सोचा कि क्यों ना इस दुकान की शुरुआत क़ुतुबुद्दीन अंसारी से ही कराई जाए।

इस दौरान क़ुतुबुद्दीन अंसारी ने एक जोड़ी चप्पल भी ख़रीदी। ‘एकता चप्पल घर’ नाम वाली मोची की दुकान शुरू करने के लिए उन्हें केरल में सीपीएम की तरफ से पैसे उपलब्ध कराए गए हैं। अब अशोक मोची जूते-चप्पल की मरम्मत करने की बजाय रेडिमेड जूते बेचेंगे। अशोक फिलहाल अहमदाबाद के थोक बाजार से जूते लाएंगे। हालांकि अभी किसी वेंडर विशेष से उसका कोई समझौता नहीं हुआ है।

वहीं दंगों के बाद पेशे से दर्जी का काम करने वाला अंसारी पश्चिम बंगाल में बस गए थे। अंसारी अभी भी दर्जी का काम कर रहे हैं। उन्होंने अपने घर में एक वर्कशॉप भी खोल ली है। वह कपड़ों को सिलते और उसके बाद बाजार में बेच आते हैं।

अशोक मोची के साथ अपने संबंधों पर अंसारी कहते हैं कि हम लोग समय-समय पर एक दूसरे से मिलते रहते हैं। उसने (अशोक) कहा कि वह अपनी दुकान का उद्घाटन मेरे हाथ से कराना चाहता है तो मैं इसके लिए तैयार हो गया। मैंने उसकी दुकान से एक जोड़ी चप्पल भी खरीदी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles