पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के करीबी अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी और उसके ड्राइवर सोनू तिवारी को शनिवार को मुंबई एटीएस ने गिरफ्तार किया है। गुड्डन पर बिकरू कांड में कानपुर पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। मुंबई एटीएस ने दोनों को जुहू इलाके से गिरफ्तार किया है।

इसी बीच गिरफ्तारी के बाद कानपुर पुलिस ने दोनों को क्लीनचीट दे दी है। कानपुर पुलिस द्वारा जारी प्रेस नोट में बताया गया है कि फिलहाल गुड्डन त्रिवेदी व सोनू तिवारी के खिलाफ घटना में शामिल होने के सबूत नहीं मिले हैं। कानपुर पुलिस तत्परता से जांच कर रही है। दोनों की भूमिका की जांच की जा रही है।

कानपुर पुलिस द्वारा जारी पत्र में यह भी कहा गया है कि गुड्डन त्रिवेदी व सोनू तिवारी विकास दुबे गैंग के पुराने सदस्य हैं। दोनों की इस घटना में शामिल होने की जांच की जा रही है। गुड्डन त्रिवेदी व सोनू तिवारी को कानपुर पुलिस मुंबई लेने जाएगी कि नहीं यह साफ नहीं हो पाया है।

कानपुर देहता के कुढ़वा रूरा निवासी गुड्डन रूरा से जिला पंचायत सदस्य है व इसकी पत्नी कंचन गांव कोढवा गांव की प्रधान है। विकास दुबे के कई गैरकानूनी कामों में गुड्डन साथ रहा है। वर्ष 2001 में भाजपा सरकार के तत्कालीन राज्यमंत्री रहे संतोष शुक्ला ह’त्याकांड में भी विकास दुबे के साथ वह भी अभियुक्त था।  हालांकि बाद में साक्ष्यों के अभाव में विकास दुबे के साथ ही यह भी बरी हो गया था।

महाराष्ट्र एटीएएस ने बताया कि मुंबई पुलिस को एक गुप्त सूचना मिली थी की कानपुर एनकाउंटर मामले में एक आरोपी ठाणे में छिपा हुआ है। एटीएस जूहू यूनिट ने कोलशेट रोड पर छापा डालकर आरोपी अरविंद उर्फ ‘गुड्डन रामविलास त्रिवेदी’ और उसके ड्राइवर सोनू तिवारी को गिरफ्तार कर लिया। गुड्डन त्रिवेदी कि गिरफ्तारी को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने 25 हजार का इनाम रखा हुआ था।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन