दसवीं के बाद इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (आईटीआई) से दो साल की ट्रेनिंग लेने वाले छात्रों को 12वीं पास माना जाएगा और ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए वे दाखिला ले सकेंगे।

कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा कि देशभर में फैले 13 हजार आईटीआई से हर साल 18 लाख बच्चे पास हो रहे हैं। अब तक आईटीआई पास करने के बाद छात्रों के पास आगे की पढ़ाई करने की कम गुंजाइश रहती थी।

रूड़ी ने कहा कि सरकार ने आईटीआई से वोकेशनल ट्रेनिंग लेने वाले छात्रों को आगे की पढ़ाई का मौका देने का काम किया है। इसके लिए 8वीं क्लास के बाद आईटीआई करने वाले छात्रों को 10वीं पास मानने और दसवीं के बाद आईटीआई करने वाले छात्रों को 12वीं पास मानने का फैसला किया गया है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?