shashi

नई दिल्ली: राम मंदिर निर्माण को लेकर अब राजनीति गरमाने लगी है। सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर विवाद पर 29 अक्टूबर को सुनवाई शुरू होने वाली है। इस बीच कांग्रेस नेता शशि थरूर ने विवादित बयान दिया है। शशि थरूर ने कहा कि अच्छे हिंदू अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण नहीं चाहते। शशि थरूर के इस बयान पर नए सिरे राजनीतिक विवाद शुरू हो सकता है। भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने थरूर के इस बयान पर कहा कि थरूर का यह बयान कांग्रेस को भारी नुक्सान पहुंचाएगा।

थरूर ने कहा कि कोई भी अच्छा हिंदू किसी दूसरे के पूजास्थल को गिराकर और बाबरी मस्जिद के स्थान पर राम मंदिर का निर्माण नहीं चाहता है। हिंदी भाषी तीन राज्यों में विधानसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने सॉफ्ट हिंदुत्व से आगे जाकर धार्मिक कार्ड खेला है। मध्य प्रदेश में उसने राम वन गमन पथ का निर्माण और प्रत्येक पंचायतों में गोशाला का निर्माण कराने का वादा किया है।

कांग्रेस अपने अध्यक्ष राहुल गांधी को जनेऊधारी हिंदू और शिवभक्त बता चुकी है। ऐसे में थरूर का मंदिर वरोधी बयान कांग्रेस के लिए राजनीतिक रूप से असहज स्थिति पैदा कर सकता है। थरूर का यह सामने आने के बाद भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने निशाना साधने में देरी नहीं की। उन्होंने कहा कि थरूर के इस बयान से कांग्रेस पार्ट को भारी नुक्सान होगा। कांग्रेस थरूर के इस बयान से दूरी बना लेगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

स्वामी ने कहा, कांग्रेस पार्टी को थरूर के इस बयान से भारी नुकसान होगा। वह अपने नेता के बयान से दूरी बना लेगी। भाजपा नेता ने कहा कि सुनंदा पुष्कर की हत्या मामले में थरूर के खिलाफ चार्जशीज दायर हो चुकी है, उन्हें जेल जाना होगा। उन्होंने कहा कि राम मंदिर और हिंदुत्व के बारे में कांग्रेस नेता को जानकारी नहीं है। देश के सभी साधु और संत अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होते देखना चाहते हैं।

Loading...