पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या में सनातन संस्था के कार्यकर्ताओं का हाथ है. इस बात का खुलासा अंग्रेजी अखबार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ ने अपनी रिपोर्ट में किया है.

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक एसआईटी की जांच में इस संगठन के पांच सदस्यों के गौरी की हत्या में शामिल होने का संदेह जताया गया है. इनमें चार के खिलाफ इंटरपोल ने साल 2009 के मडगांव ब्लास्ट मामले में रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया हुआ है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गौरी लंकेश हत्याकांड में एसआईटी ने सनातन संस्था के लोगों से भी पूछताछ कर चुकी है. शुरूआती जांच में ही सामने आ चूका था कि इस हत्याकांड के पीछे सनातन संस्था का हाथ हो सकता है.

सनातन संस्था के जिन लोगों पर शक है, वो इस प्रकार है – कोल्हापुर निवासी प्रवीण लिमकार (34), मंगलौर निवासी जयप्रकाश उर्फ अन्ना (45), पुणे निवासी सारंग अकोलकर (38), सांगली निवासी रुद्र पाटिल (37) और सतारा निवासी विनय पवार (32).

इनमें से रुद्र पाटिल, सारंग अकोलकर और विनय पवार का नाम नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पनसारे और एमएम कलबुर्गी की हत्या में भी आ चूका है. ध्यान रहे 5 सितबंर 2017 को गौरी लंकेश की हत्या उनके बेंगलुरू स्थित निजी आवास के बाहर कर दी गई थी.

Loading...