बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद फिर से मुश्किलों में घिरती दिख रही है। पतंजलि के कई उत्पादों के विज्ञापनों को एफएसएसएआई और एएससीआई ने भ्रामक और दूसरी कंपनियों को बदनाम करने वाला पाया है।

एफएसएसएआई ने अपनी सेंट्रल लाइसेंसिंग अथॉरिटी को निर्देश दिया है कि वह पतंजलि को कारण बताओ नोटिस जारी करे। पतंजलि ने कच्ची घानी सरसों तेल के विज्ञापन में कहा है कि अन्य कंपनियां सरसों तेल में हेक्सागन सॉलवेन्ट और सस्ते पॉम ऑयल मिलाती हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एएससीआई ने इसके अलावा पतंजलि के कई विज्ञापनों पर भी आपत्ति जताई है जिनमें केश कांति, हर्बल वाशिंग पाउडर और पतंजलि दंत कांति के विज्ञापन शामिल हैं।

Loading...