सिख ड्राईवर सरबजीत के खिलाफ पहले से दर्ज हैं चार मामले, वार्निंग देकर छोड़ा गया था

11:03 am Published by:-Hindi News

दिल्ली के मुखर्जीनगर में सिख बाप-बेटे की पिटाई के मामले में जांच कर रही पुलिस को पता चला है कि सरबजीत का पहले भी आपराधिक बैकग्राउंड रहा है। उसके खिलाफ पहले से ही चार आपराधिक मामले दर्ज हैं।

जानकारी के अनुसार, सरबजीत सिंह पर 3 अप्रैल को गुरुद्वारा बंगला साहिब के सेवादार ने मारपीट का मामला पार्लियामेंट थाने में दर्ज कराया था। इसके अलावा एक मामला तिमारपुर और 2 अन्य मामलों में शिकायत दी गई थी। हालांकि इन तीनों मामलों में उन पर मुकदमा दर्ज नहीं हुआ था। पुलिस ने पहली शिकायत सीआरपीसी 107/151, दूसरी 107/151 तथा तीसरे 102बी/107/151 के तहत कार्रवाई कर हिदायत देकर छोड़ दिया गया था।

असल में ये मामला 3 अप्रैल 2019 का है। गुरुद्वारा बंगला साहिब के सेवादार मंगल सिंह ने शिकायत दी थी कि सरबजीत कई दिनों से अपने बेटे के साथ गुरुद्वारे में रह रहा था। जब उससे नाम, पता और गुरुद्वारे में रहने की वजह पूछी गई तो वो मौक़े से भागने का प्रयास करने लगा। जब सरबजीत और उसके बेटे को जाने से रोका गया तो बाप और बेटे झगड़ा करने लगे और बदसलूकी कर सरबजीत ने मंगल का हाथ तोड़ दिया। बाद में दोनों को पकड़ा गया और साथ ही पुलिस को सूचित किया गया था।

मंगल सिंह ने बताया कि जब आरोपी सरबजीत से उसका पता पूछा गया तो वो ख़ुद को दिल्ली के बूराडी इलाक़े का निवासी बताने लगा। पुलिस ने मौक़े पर पहुंचकर आरोपी सरबजीत को गिरफ़्तार कर किया था और उसके ख़िलाफ़  संसद मार्ग थाने में मुक़दमा भी दर्ज किया गया था। फिलहाल गत रविवार को हुए मुखर्जी नगर मारपीट मामले में क्राइम ब्रांच ने केस लेते हुए अपनी जांच शुरू कर दी है।

मारपीट का ये मामला अब राजनीतिक रंग पकड़ता जा रहा है। सोमवार की रात हज़ारों की संख्या में फिर लोग मुखर्जी नगर थाने के बाहर इकट्ठे हुए और उन्होंने अपने ही समुदाय के अकाली नेता मनिंदर जीत सिंह सिरसा की पिटाई कर दी। आरोप लगाया कि वे पुलिस से मिले हुए हैं। कुछ पत्रकारों को भी पीटा गया। इससे पहले रविवार को वाहनों में तोड़ फोड़ की गई थी और 8 पुलिसकर्मियों समेत एक एसीपी को बुरी तरह पीटा गया। हंगामा कर रहे लोग अलग अलग गुटों और राजनीतिक दलों में बंटे हुए हैं। कुछ लोग सरबजीत के कृपाण लहराने को सही मानते हैं, तो कुछ गलत।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें