देश के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा है कि बालाकोट एयरस्ट्राइक पर सवाल करना नागरिकों का अधिकार है। उनके मुताबिक लोग ये पूछ सकते हैं कि आखिर क्यों बालाकोट पर एयरस्ट्राइक किए गए और इससे देश को क्या मिला। सरकार को इन सवालों का जवाब देना चाहिए।

जब उनसे यह पूछा गया कि क्या इस मुद्दे पर सेना और सरकार से सवाल करना देश विरोधी है तो उन्होंने कहा ‘निश्चित तौर पर यह हर नागरिक का अधिकार है कि वह विदेश नीति और रक्षा मामलों से जुड़े मुद्दों पर सवाल पूछे।’  उन्होंने आगे कहा ‘अब देश के बाहर विश्व स्तर पर इतने सारे साक्ष्य उपलब्ध हैं कि आप सच को छिपा नहीं सकते।’

यह पूछे जाने पर कि ऐसी चर्चा है कि भारत ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान को ढेर नहीं किया तो उन्होंने कहा, वह वायुसेना के तकनीकी पक्ष को ज्यादा नहीं जानते, लेकिन अगर एक पक्ष कह रहा है कि उसने एफ-16 को मार गिराया और दूसरा इससे इनकार कर रहा है तो कुछ तो गड़बड़ है।

पूर्व उपराष्ट्रपति ने आगे कहा ‘देश में असल मुद्दों को इन सभी बातों के जरिए छिपाया जा रहा है। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने काम की शुरुआत तो जबरदस्त की लेकिन वह अपने वादों को पूरा नहीं कर सके। उनके पांच साल के कार्यकाल के कामकाज को ठीकठाक ही कहा जा सकता है।’

पूर्व उपराष्ट्रपति ने कहा कि अभी वह नहीं कह सकते कि भाजपा ने किस सोच के तहत साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से चुनाव मैदान में उतारा है, लेकिन उम्मीदवारी घोषित होने के बाद 1992 के बाबरी मस्जिद मामले पर बयान देकर प्रज्ञा ने अपनी मुसीबत बढ़ा ली है।

अंसारी का कहना था कि बाबरी विध्वंस में नाम सामने आने पर कई लोगों पर केस चल रहा है। उनका मानना है कि कानून प्रज्ञा के खिलाफ कार्रवाई करेगा। इससे निकट भविष्य में उनकी परेशानियां बढ़ने ही वाली हैं। अंसारी प्रज्ञा के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे, जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें गर्व है कि बाबरी विध्वंस में वह शामिल थीं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें