ham

बीती दो मई को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के कैंपस में हिन्दुत्ववादी कार्यकर्ताओं की और से गुंडागर्दी और पुलिस के लाठीचार्ज के खिलाफ धरने पर बैठे एएमयू छात्रों के पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी समर्थन में आ गए है.

शनिवार को अंसारी ने कहा कि परिसर में घुसे लोगों के खिलाफ शांतिपूर्ण आंदोलन प्रशंसनीय है. उन्होंने कहा, छात्रों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इससे शैक्षणिक गतिविधियों में बाधा न पहुंचे. छात्रों की बाहरी लोगों और हंगामा करने वालों के खिलाफ न्यायिक जांच की मांग न्यायोचित है.

एएमयू स्टूडेंट यूनियन को लिखे पत्र में उन्होंने कहा कि एएमयू के प्रशासन ने भी इस तरह का आग्रह किया है. अंसारी ने कहा कि बाधा डाला जाना, उसका समय तथा ‘‘उसे सही ठहराने के लिए गढ़ा गया बहाना ’ सवाल उठाता है.

उन्होंने कहा कि गत दो मई के कार्यक्रम के बारे में सार्वजनिक जानकारी थी जिसमें केनेडी आडिटोरियम में उनका एक संबोधन भी शामिल था. संबंधित प्राधिकारियों को आधिकारिक रूप से जानकारी दी गई थी और वे ऐसे मौकों पर होने वाली सुरक्षा सहित मानक व्यवस्था से अवगत थे.

amuuu

पूर्व उप राष्ट्रपति ने कहा, ‘इसके मद्देनतर परिसर में घुसे लोगों का यूनिवर्सिटी गेस्ट हाउस तक पहुंचना अभी भी रहस्य बना हुआ है जहां मैं ठहरा हुआ था.’ पूर्व उपराष्ट्रपति अंसारी ने उन्हें सम्मान देने के लिए एएमयू छात्र संघ और उसके पदाधिकारियों का धन्यवाद किया.

बता दें कि 2 मई को अंसारी को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की और से आजीवन सदस्य के रूप में सम्मानित किया जाना था. लेकिन कथित तौर पर कैंपस में हथियारों के साथ हिन्दुत्ववादी कार्यकर्ताओं के हमले के बाद उनके कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें