आरएसएस मुख्यालय जाने को लेकर बोले पूर्व राष्ट्रपति – जाकर उन्हें दिखाना चाहता था कि वे गलत कर रहे हैं

5:53 pm Published by:-Hindi News

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मुख्यालय जाने को लेकर कहा कि ‘मैं शेर की मांद में जाना चाहता था और उन्हें दिखाना चाहता था कि वे गलत कर रहे हैं।’ बता दें कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 6 जून 2018 को नागरपुर में संघ मुख्यालय की बैठक को संबोधिक किया था।

उन्होंने संघ के कार्यक्रम में कहा था, ‘सहिष्णुता हमारी मज़बूती है। हमने बहुलतावाद को स्वीकार किया है और उसका आदर करते हैं. हम अपनी विविधता का उत्सव मनाते हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि हम सहमत हो सकते हैं, असहमत हो सकते हैं, लेकिन हम वैचारिक विविधता को दबा नहीं सकते।

एनडीटीवी की सोनिया सिंह ने किताब ‘Defining India: Through Their Eyes’ के लिए इंटरव्यू में पूर्व राष्ट्रपति ने मोदी सरकार की तरफ से भारत रत्न दिए जाने से लेकर आरएसएस मुख्यालय से निमंत्रण और आपातकाल जैसे विभिन्न मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी।

rss mohan bhagwat and former president pranab mukherjee 770x433

इससे पहले उन्होने ईवीएम को लेकर आ रही खबरों को चिंताजनक बताया और कहा कि उसकी सुरक्षा करना चुनाव आयोग की ‌जिम्मेदारी है। आयोग को लोगों का भरोसा नहीं टूटने देना चाहिए।

णब मुखर्जी ने ट्वीटर पर एक बयान जारी करते हुए कहा कि लोकतंत्र में लोगों के निर्णय पर कोई खतरा नहीं आना चाहिए। लोगों का फैसला हमेशा सर्वोच्च रहना चाहिए। उन्होंने आगे लिखा कि जो कार्य कर रहा है उसी की जिम्मेदारी है कि संस्‍थान सही तरीके से चले। ईवीएम को लेकर जो भी संशय आ रहे हैं उन्हें दूर करने के लिए चुनाव आयोग को कार्रवाई करनी चाहिए।

Loading...