Sunday, June 13, 2021

 

 

 

संघ के समर्पित ब्रह्मचारी रहे मेघालय के पूर्व राज्यपाल ने महिला को इंटरव्यू के बहाने बुलाकर जबरन किया किस

- Advertisement -
- Advertisement -

वी. षणमुगनाथनयौन उत्पीड़न के आरोप लगने के बाद मेघालय के राज्यपाल का पद छोड़ने वाले वी षणमुगनाथन पर एक महिला ने आरोप लगाया कि नवंबर महीने में राज्यपाल ने नौकरी के साक्षात्कार के लिए बुलाया था और वहां पर उसके साथ छेड़छाड़ की.

द हाईलैंड पोस्ट ने महिला के हवाले से रिपोर्ट में लिखा है, ‘राज भवन में पीआरओ की पोस्ट के लिए इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था. वहां पर राज्यपाल ने मुझे हग किया और जबरन किस किया.’ एनडीटीवी का दावा है कि उनके पास भी महिला के हाथ से लिखा एक नोट है, जिसमें उन्होंने राज्यपाल पर ऐसे ही आरोप लगाए हैं.

याद रहें कि राजभवन के 80 से अधिक कर्मचारियों के हस्ताक्षर वाली चिट्ठी प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को भेजी गई थी जिसमें उनके ख़िलाफ़ गंभीर शिकायतें की गई थीं, जिसके बाद उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया. पत्र में कहा गया था कि उन्होंने “राजभवन को ‘लेडीज़ क्लब’ में बदल दिया था जहाँ सिर्फ़ युवा महिला कर्मचारियों की ‘नाइट ड्यूटी’ लगाई जाती थी.

कर्मचारियों द्वारा लिखे गए खत में कहा गया था, ‘राज भवन की सुरक्षा के साथ समझौता किया गया है. राज भवन अब एक ऐसी जगह बन गई है कि राज्यपाल के आदेश के साथ युवा लड़कियां आती हैं और सीधे अंदर जाती हैं.’ खत में कहा गया था राज्यपाल की गतिविधियों की वजह से राजभवन की मर्यादा और प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है.

मेघालय के राज्यपाल वी षणमुगनाथन ने अपने जीवन का बड़ा हिस्सा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को तमिलनाडु में मज़बूत बनाने में लगाया. तमिलनाडु में आरएसएस का वरिष्ठतम प्रचारक के होने की वजह से उन्हें भाजपा सरकार ने राज्यपाल बनाया. 68 वर्षीय षणमुगनाथन मेघायल के अलावा अरुणाचल प्रदेश के भी कार्यवाहक राज्यपाल थे.

किसी ज़माने में भाजपा के अध्यक्ष रहे जना कृष्णमूर्ति के बाद तमिलनाडु से आने वाले वे संघ के गिने-चुने बड़े प्रचारकों में थे, 1962 में संघ से जुड़ने के बाद वे 1970 में संघ के प्रचारक बने और दो साल तक संघ के प्रांत प्रचारक (राज्य में संघ के सबसे बड़े नेता) भी रहे.

तमिलनाडु के तंजावुर ज़िले से ताल्लुक रखने वाले षणमुगनाथन ने संघ को स्थापित करने के लिए कई अभियान चलाए जिनमें युवाओं को जोड़ने का अभियान प्रमुख था.राजनीति शास्त्र में एम फ़िल कर चुके षणमुगनाथन भाजपा के दिल्ली स्थित मुख्यालय में रिसर्च एंड डॉक्युमेंटेशन के प्रभारी के रूप में काम कर चुके हैं. उन्होंने राष्ट्रवाद और हिंदू संस्कृति की महानता पर तमिल में तीन किताबें भी लिखी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles