जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के लापता छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी को 5 महीने का लम्बा वक्त गुजर चूका हैं. लेकिन अब तक दिल्ली पुलिस नजीब के बारें में कुछ भी पता नहीं लगा पाई. इस मामलें को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने भी सख्त रूख अख्तियार करते हुए दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाई.

कोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस से कहा कि वो जनता का पैसा बर्बाद करने की जगह नजीब को ढूंढने की कोशिश करे. कोर्ट ने कहा, ‘दिल्ली पुलिस केवल पेपर वर्क पर ध्यान दे रही है. लेकिन हमें इस मामले में जल्द से जल्द से नतीजे की दरकार है.

जस्टिस विनोद गोयल और जीएस सिस्टानी की बेंच ने कहा, ‘कागजी कार्रवाई के अलावा कुछ भी नहीं किया गया है. आपके जांच अधिकारी समय की बर्बादी कर रहे हैं. वो सिर्फ दिल्ली, बरेली, हरिद्वार के रास्ता में पड़ने वाले थानों और अस्पतालों के रेकॉर्ड देखने जा रहे हैं और जनता का पैसा बर्बाद कर रहे हैं.’

बेंच ने क्राइम ब्रांच के डीसीपी से कहा कि जैसा भी हो वो इस मामले में जवाब चाहते हैं. साथ ही यह भी कहा कि छात्र को ढूंढकर लाने में आप जो भी कर सकते हैं करें. किसी भी तरह से हमें जवाब चाहिये. अगर उसकी मृत्यु हो गई है, तो कहिये कि वो मर चुका है. हम कागजी कार्यवाही नहीं स्वीकार कर सकते हैं. जो भी हो सकता है उसे ढूंढने के लिये वो करिये’

गौरतलब रहें कि नजीब पिछले 5 महीने से जेएनयू कैंपस से लापता है. 14 अक्टूबर की रात जेएनयू के माही मांडवी हॉस्टल में ABVP कार्यकर्ताओं द्वारा पीटे जाने के बाद से ही नजीब का अबतक कोई सुराग नहीं मिल पाया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?