Thursday, October 21, 2021

 

 

 

भारत के पहले ओलिंपिक तैराक मेहबूब शमशेर खान का हुआ निधन

- Advertisement -
- Advertisement -

sher11

भारत का पहले ओलंपियन तैराक, मेहबूब शमशेर खान अब हमारे बीच नहीं रहे.  रविवार को दिला का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.

खान 1956 में वापस राष्ट्रीय नायक थे, जब वह मेलबर्न के ग्रीष्म ओलंपिक में 5 वीं स्लॉट में समाप्त होने वाले पहले भारतीय तैराक बने थे. हैरानी की बात है कि पिछले छह दशकों में बुनियादी ढांचे और कोचिंग सुविधाओं में सुधार के बाद भी कोई भी भारतीय तैराक ने अब भी 5 वें स्थान तक पहुंचने में कामयाब नहीं हुआ.

खान ने लगभग 24 वर्षों तक भारतीय सेना में काम किया और सुबेदार के रैंक में सेवानिवृत्त हुए. विडंबना यह है कि, खान पूरी तरह गरीबी में रहे. उनके अंत तक भारतीय सेना द्वारा दी गई पेंशन उनके परिवार की आय का एकमात्र स्रोत थी.ध्यान रहे खान के बड़े बेटे साजिद वली खान अभी भी भारतीय सेना की सेवा कर रहे हैं.

खान ने 1954 में 200 मीटर बटरफ्लाई में एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया और 1955 में बैंगलोर में राष्ट्रीय सम्मेलन में सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए. उन्होंने ऑलंपिक स्क्वॉब में स्लॉट अर्जित किया जिसमें उन्होंने मेलबर्न में दोहराया. दिलचस्प बात यह है कि उन्होंने भारत सरकार से सिर्फ मेलबर्न में हवाई किराया लिया था, जबकि ओलंपिक के दौरान खान को अपने भोजन और अन्य लागतों को पूरा करने के लिए उन्होंने ना से 300 रुपये का ऋण लिया था.

खान, जो 1946 में सेना में शामिल हुए, ने 1 9 62 में चीन और 1 9 73 में पाकिस्तान के खिलाफ दो महत्वपूर्ण लड़ाइयों में सेना की सेवा की थी. उन्हें सेना में 24 साल की सेवा देने के बाद बंगलौर में मद्रास इंजीनियर समूह में शामिल किया गया था. हालांकि, खान ने स्वयं दावा किया था कि वह गांव के तालाब में भैंसों के साथ तैरना सीखे थे, उन्हें सेना में शामिल होने के बाद प्रशिक्षित का मौका मिला.  उनकी बेटी रिजावाना खान ने बताया, “मेरे पिता जी ने स्थानीय लोगों से किसी भी वित्तीय सहायता से नहीं ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles