Thursday, August 5, 2021

 

 

 

जामिया मार्च पर गोलीबारी: घायल छात्र ने यूनिवर्सिटी प्रशासन और पुलिस को बताया जिम्मेदार

- Advertisement -
- Advertisement -

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर CAA और NRC के विरोध में जामिया इलाके से राजघाट तक शांति मार्च निकाल रहे छात्रों पर हुई गोलीबारी की घटना को लेकर घायल छात्र शाहदाब फारूक ने इस घटना के लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन और पुलिस को बताया जिम्मेदार बताया।

शाहदाब ने कहा कि अगर यूनिवर्सिटी प्रशासन समय रहते पुलिस की बर्बरता को लेकर कार्रवाई करता तो इस तरह की घटना सामने नहीं आती। शाहदाब ने कहा कि पुलिस की बर्बरता के खिलाफ क्या पहले किसी यूनिवर्सिटी ने कोई एक्शन लिया।

उन्होने कहा, इस तरह की घटनाओं को लेकर एक्शन लेने का काम उन लोगों (केंद्र सरकार) का भी है जो इन यूनिवर्सिटी को चलाते हैं। आज अगर जामिया या जेएनयू समेत देश की अन्य यूनिवर्सिटी में छात्र सुरक्षित नहीं है तो इसके लिए सरकार भी जिम्मेदार है जो छात्रों की देखभाल नहीं कर पा रही।

बता दें कि शांतिमार्च पर गोलीबारी करने वाले शख्स की पहचान रामभक्त गोपाल के रूप में हुई है। वह ग्रेटर नोएडा के जेवर का रहने वाला है। आरोपी शख्स ने इस घटना को अंजाम देने से पहले फेसबुक लाइव किया था। फेसबुक पर उसने यह भी लिखा है कि चंदन का बदला लेने जा रहा है। गोली चलाते वक्त ‘यह लो आज़ादी’ कहते सुने गया।

बताया जा रहा है कि आरोपी गोपाल बजरंग दल का कार्यकर्ता है। आरोपी के फेसबुक पर उसकी एक तस्वीर पोस्ट है, जिसमें वह बजरंग दल के नेता दीपक शर्मा के साथ दिखाई दे रहा है। दीपक शर्मा के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार ने साल 2018 में शारदा यूनिवर्सिटी में अफगानी छात्रों के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी करने के लिए नेशनल सिक्योरिटी एक्ट के तहत कार्रवाई की थी।

इतना ही नहीं फेसबुक पेज के ‘अबाउट मी’ सेक्शन में आरोपी ने बजरंग दल, जेवर जय श्री राम भी लिखा हुआ है। साथ ही लिखा है कि मैं (भाजपा, बजरंग दल या आरएसएस) का सदस्य हूं। एक पोस्ट में आरोपी ने ‘शाहीन बाग को जलियांवाला बाग में तब्दील करने और बदला लेने’ की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles