फर्जी खबरों के सच सामने लाने वाले मोहम्मद जुबैर के खिलाफ POSCO के तहत FIR

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की साइबर सेल (Cyber Cell) ने फैक्ट चेकिंग वेबसाइट AltNews के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर के खिलाफ ट्विटर के जरिए नाबालिग लड़की को ‘धमकाने और उत्पीड़न’ करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है।

नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) की शिकायत पर जुबैर के खिलाफ IT Act और POCSO एक्ट के तहत एफ़आईआर दर्ज की गई है। हांलाकि मोहम्मद जुबैर ने आरोपों से इंकार किया है। जुबैर ने कहा है कि शिकायत का कानूनी जवाब देने को तैयार हैं।

एनसीपीसीआर ने दिल्ली पुलिस साइबर सेल और रायपुर पुलिस को शिकायत भेजी थी। इस एफआईआर में @zoo_bear सहित तीन ट्विटर हैंडल का उल्लेख किया गया है, जो कि फैक्ट चेकिंग वेबसाइट के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर द्वारा चलाया जाता है। अन्य दो हैंडल @de_real_mask और @ syedsarwar20 हैं।

साइबर क्राइम दिल्ली के डीसीपी अन्येश रॉय और रायपुर के एसपी अजय यादव ने एफआईआर दर्ज होने की पुष्टि की है। NCPCR ने मोहम्मद जुबैर द्वारा शेयर किए गए एक ट्वीट का हवाला दिया है, जिसे 6 अगस्त को शेयर किया गया था और उसमें एक नाबालिग बच्ची की तस्वीर थी। तस्वीर में बच्ची का चेहरा धुंधला किया गया था।

एनसीपीसीआर के चेयरपर्सन प्रियांक कानूनगो ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘एनसीपीसीआर ने 8 अगस्त को पोस्ट का संज्ञान लिया और एक जांच शुरू की। इसमें हमने ट्विटर से पूरी जानकारी मांगी। ट्वीटर के जवाब से असंतुष्ट होने के बाद हमने ट्विटर पर तलब किया और उनके प्रतिनिधि शुक्रवार को आयोग के समक्ष उपस्थित हुए।’

जुबैर और ऑल्ट न्यूज़ ने इन आरोपों का खंडन किया है। ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने ट्विटर पर पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, कानूनी तरीकों के दुरुपयोग से ज़ुबैर को प्रताड़ित करने का प्रयास किया जा रहा है। ऑल्ट न्यूज़ मोहम्मद ज़ुबैर के साथ खड़ा है। मोहम्मद ज़ुबैर के समर्थन में हज़ारों ट्वीट अब तक किए जा चुके हैं।

विज्ञापन