कठुआ गैंगरेप पीड़िता का केस लड़ने वाली एडवोकेट दीपिका सिंह राजावत के खिलाफ जम्मू-कश्मीर पुलिस ने रविवार को धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने इस बात की पुष्टि की है।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि अधिवक्ता दीपिका सिंह राजावत पर विभिन्न वर्गों के लोगों के बीच दुश्मनी और नफरत पैदा करने के लिए आईपीसी की धारा 295 ए और 505 (बी) (2) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

जम्मू की रहने वाली वकील ने पिछले मंगलवार को एक कार्टून ट्वीट किया था। जिसके चलते उन्हे धमकियाँ मिल रही थी। उन्होने खुद पर हमले की भी आशंका जताई थी। उन्होने आईजीपी जम्मू संभाग आईपीएस मुकेश सिंह से इस बारे में शिकायत की थी।

दरअसल, दीपिका सिंह राजावत ने ट्वीट किया। जिसमे उन्होने महिलाओं को लेकर पुरुषों की मानसिकता पर एक कार्टून के जरिये सवाल उठाया। लेकिन हिन्दू कट्टरपंथियों को ये ट्वीट हजम नहीं हुआ और उन्होने दीपिका सिंह राजावत को धमकियाँ देनी शुरू कर दी। साथ ही अब उनके घर के सामने प्रदर्शन भी किया।

उन्होने ट्वीट कर बताया, ‘कई दक्षिणपंथी संगठन मेरे घर के बाहर गुस्से में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कानूनी एजेंसियों को अप्रिय घटना को रोकने के लिए तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। मुझे डर है कि उन्मादी भीड़ मुझ पर कभी भी हमला कर सकती है।’

इसके बाद उन्‍होंने एक और ट्वीट में आईजीपी जम्मू संभाग आईपीएस मुकेश सिंह और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस को टैग करते हुए लिखा, ‘मैं आपसे संपर्क करने का प्रयास कर रही हूं लेकिन घर के बाहर भीड़ इकट्ठा होने के बावजूद आपसे संपर्क नहीं हो रहा है।’

इससे पहले मंगलवार रात राजावत ने ट्वीट कर बताया था कि मंगलवार की रात को उनके घर को कुछ लोगों ने घेर लिया और कब्र खोदने की धमकी देने लगे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano