गुजरात विधानसभा चुनाव में अंतिम चरण के मतदान से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इंटरव्यू दिखाने को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लेते हुए मीडिया चैनलों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.

चुनाव आयोग ने ये फैसला बीजेपी की शिकायत पर लिया है. आयोग ने इंटरव्यू दिखाने वाले मीडिया चैनलों के खिलाफ जनप्रतिनिधि अधिनियम 1951 के उल्लंघन के तहत एफआईआर दर्ज कराने का निर्देश दिया है.

बीजेपी का आरोप है कि इस इंटरव्यू के जरिए राहुल कांग्रेस का प्रचार कर रहे थे, जबकि गुजरात में गुरुवार को दूसरे चरण का मतदान होना है और चुनाव प्रचार थम चुका है. राहुल गांधी के इंटरव्यू के खिलाफ भाजपा ने गुजरात चुनाव आयोग में तीन शिकायतें भी दर्ज कराई.

चुनाव आयोग का आदेश

इस सबंध में चुनाव आयोग ने राहुल को नोटिस भी भेजा है.आयोग का कहना है, ‘इस तरह का प्रसारण जनप्रतिनिधि कानून की धारा 126 (3) के तहत ‘चुनाव मामले’ की व्याख्या में आता है और मतदान वाले क्षेत्रों में 48 घंटे पहले तक इनका प्रसारण इस कानून का उल्लंघन माना जाता है.’

राहुल गांधी को नोटिस भेज जाने के बाद कांग्रेस का एक डेलीगेशन दिल्ली में चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचा है. इन नेताओं का कहना है, ‘पीएम मोदी, बीजेपी प्रेसिडेंट, फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली और रेल मिनिस्टर पीयूष गोयल ने बार-बार चुनाव संहिता का उल्लंघन किया है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें