नई दिल्ली: पुलवामा हमले के बाद राज्य में कश्मीरी छात्रों की स्थिति के बारे में एक ट्वीट में कथित तौर पर गलत सूचना फैलाने के आरोप में उत्तराखंड के देहरादून स्थित प्रेम नगर पुलिस स्टेशन में पूर्व जेएनयू छात्रनेता शेहला रशीद के खिलाफ केस दर्ज किया गया। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 505, 153 और 504 के तहत केस दर्ज किया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक निवेदिता कुकरेती ने कहा, ‘आईपीसी की धारा 505, 153 और 504 के तहत शेहला के खिलाफ प्रेम नगर पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गयी है.’  बता दें कि शेहला ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किया कि देहरादून में एक कॉलेज के हॉस्टल में 15-20 कश्मीरी लड़कियां फंसी हुई हैं. भीड़ उन्हें संस्थान से निकालने की मांग कर रही है. पुलिस वहां मौजूद है लेकिन भीड़ को हटाने के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रही है.’ हालांकि शेहला के ट्वीट का उस समय उत्तराखंड पुलिस के साथ-साथ सीआरपीएफ के मददगार नाम के ट्विटर हैंडल ने भी खंडन किया था.

Loading...

अपने खिलाफ हुई एफआईआर पर ट्वीट करते हुए शेहला ने लिखा, ‘उत्तराखंड पुलिस ने मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, लेकिन उन्होंने बजरंग दल के विकास वर्मा के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है जो राष्ट्रीय समाचार पत्रों में इस हमले की अगुवाई कर रहा था, और कश्मीरियों को देहरादून छोड़ने का हुक्म दे रहा था. बता नहीं सकती कि उत्तराखंड में किसकी सरकार है!’
शेहला रशीद ने एफआईआर की कॉपी ट्वीट करते हुए लिखा ‘बीजेपी की सरकार के तहत न्याय मांगने पर आपको ये कीमत चुकानी पड़ती है.’

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें