विश्व प्रसिद्ध इस्लामिक इमारत ताजमहल में स्थित मस्जिद के अपमान के मामले में ताजगंज थाने में हिंदूवादी संगठन अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद से ताल्लुक रखने वाली तीन महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

बता दें कि 17 नवंबर को अन्तरराष्ट्रीय हिंदू परिषद से ताल्लुक रखने वाली 3 महिलाओं  ने ताजमहल में बनी करीब 400 साल पुरानी मस्जिद में पहुंचकर पूजा की थी। इन महिलाओं ने मस्जिद परिसर में धूपबत्ती जलाई और गंगाझल भी छिड़का था। सोशल मीडिया पर संगठन की अध्यक्ष मीना देवी ने वीडियो जारी किया था।

अब इस मामले पर अज्ञात 3 महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। जांच के लिए सीआईएसएफ से सीसीटीवी फुटेज मांगा गया है। वहीं अधिकारियों का कहना है कि सीआईएसएफ के जवानों को मस्जिद में प्रवेश करने की इजाजत नहीं है। इसलिए वे इस घटना के बारे में कुछ नहीं जानते हैं।

इस मामले में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग का कहना है कि उन्होंने अपने स्टाफ को मौके पर भेजा था, लेकिन वहां से धूप या पूजा का कोई सामान बरामद नहीं हुआ है। स्थानीय पुलिस को घटना की जानकारी दे दी गई है साथ ही सीआईएसएफ से सीसीटीवी फुटेज की मांग की गई है, ताकि उससे घटना की जांच की जा सके।

वहीं हिंदूवादी महिलाओं द्वारा ताजमहल की मस्जिद में पूजा करने पर मस्जिद के इमाम ने नाराजगी जतायी थी और कहा कि मस्जिद में पूजा करना गलत है और जिन्होंने ऐसा किया है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन