दिसपुर | पिछले साल इंडियन आइडल जूनियर की रनर अप रही नाहिद आफरीन ने अपनी गायकी से न जाने कितने लोगो का दिल जीता. शो के जजों ने नाहिद अफरीन के बारे में कहा था की वो भविष्य की गायिका है. उनकी आवाज के लोग इतने दीवाने हुए की उनको शो जीतने की दहलीज पर पहुंचा दिया. लेकिन अब यही गायकी उनके लिए मुसीबत का सबब बन गयी है.

असम की रहने वाली 16 वर्षीय नाहिद आफरीन के खिलाफ वहां के कुछ लोगो ने करीब 46 फतवे जारी किये गए है. असम के होजई और नागांव जिलो में कुछ ऐसे पर्चे बांटे गए जिसमे असमिया भाषा में फतवा लिखा हुआ है. इन पर्चो में फतवा जारी करने वालो का नाम भी लिखा गया है. फतवे के अनुसार नाहिद का स्टेज पर परफॉर्म करना शरिया कानून के खिलाफ है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इन फतवों में लिखा गया है की लंका इलाके के उदाली सोनई बीबी कॉलेज में नाहिद का परफॉर्म करना शरिया कानून के खिलाफ है. क्योकि म्यूजिकल नाईट जैसे चीजे पूरी तरह शरिया के खिलाफ है. फतवा जारी करने वालो ने नाहिद की गायकी पर सवाल उठाते हुए उन्हें कॉलेज में परफॉर्म करने से मना किया है. लेकिन नाहिद का इन फतवों पर कुछ और ही कहना है.

उन्होंने फतवा जारी होने पर कहा की मैं इस पर क्या कहूँ, मुझे लगता है की मेरा संगीत अल्लाह का तोहफा है. मैं इस तरह के फतवों और धमकियों से डरकर अपना संगीत नही छोडूंगी. मालूम हो की नाहिद अभी सिर्फ 16 साल की है और दसवी क्लास में पढ़ती है. ऐसे फतवे एक उभरती बहुमुखी प्रतिभा को हतोसाहित करते है जिससे पूरी दुनिया उनकी प्रतिभा देखने से महरूम हो जाती है. उधर पुलिस ने बताया की नाहिद ने एक कार्यक्रम में ISIS के खिलाफ कुछ गाने गाये थे, उसी की प्रतिक्रिया में ये फतवे जारी किये गए है.

Loading...