kisaan

रविवार को 30 हज़ार किसान मुंबई पहुंचे. गुस्साई किसान 6 मार्च को अपनी मांगों को लेकर नासिक से मुंबई के लिए निकले थे. सभी किसान यहाँ आज़ाद मैदान में जमा हुए. आपको बता दें कि इन किसानों के साथ महिलाएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं. आज किसान आज़ाद मैदान से विधानसभा का घिराव करेंगे.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यूं इस तरह सड़कों पर इकठ्ठा हुए किसानों की कुछ मांगे है जिन्हें पूरा करने के लिए यह विशाल प्रदर्शन किया जा रहा है. आपको बता दें कि, किसानों की मांग है कि सरकार इनके लोन माफ करे, क्योंकि बैंकों से लिया कर्ज किसानों के लिए बोझ बन चुका है. मौसम के बदलने से हर साल फसलें तबाह हो रही है. ऐसे में किसान चाहते हैं कि उन्हें कर्ज से आजादी मिले.

वहीँ मुंबई में किसानों के इस विशाल आंदोलन से यहाँ राजनीति काफी तेज हो गई है. मुंबई पहुंचे किसानों से पहले दोपहर में शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने मुलाकात की, तो रात में मनसे प्रमुख राज ठाकरे किसानों से मिलने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने किसानों से कहा, “किसानों को जब भी मेरी जरूरत होगी, मैं हाजिर हो जाऊंगा.”

किसानों की तबियत हुई खराब

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के किसान मोर्चे अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) की अगुवाई में यह विरोध मार्च मंगलवार को नासिक से मुंबई के लिए रवाना हुआ था. किसान 180 किलोमीटर लंबी पैदल यात्रा करने के बाद मुंबई पहुंचे थे. आपको बता दें कि, शुरुआत में 12,000 किसानों का काफिल निकला था, जो बढ़ते-बढ़ते 30 हजार किसानों में तब्दील हो गया.

इसी बीच शनिवार को यात्रा में शामिल 5 किसानों की तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इलाज के बाद किसानों को छुट्टी दे दी गई है. आपको बता दें कि, इन किसानों को पानी की कमी और ब्लड प्रेशर होने की शिकायत के बाद अस्पताल ले जाया गया था.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें