Monday, June 14, 2021

 

 

 

किसानों ने टोल प्लाजा करे फ्री, अब दिल्ली-जयपुर हाईवे बंद करने की तैयारी

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों (New farm law) को रद्द करने की मांग को लेकर धरना दे रहे किसानों का आंदोलन तेज होता ही जा रहा है। आंदोलन के 18वें दिन कृषि कानूनों (New Farm Law) के विरोध में (Farmers Protest) किसानों ने अब भूख हड़ताल करने का ऐलान किया है।

हरियाणा में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कल देर रात करनाल के बसताड़ा टोल प्लाजा को बंद किया। आंदोलनकारी किसानों ने सोनीपत में नेशनल हाईवे पर मुरथल टोल फ्री करवाया। साथ ही पानीपत में नेशनल हाईवे टोल फ्री किया गया। उत्तर प्रदेश में भी किसानों ने ग्रेटर नोएडा, आगरा, मुजफ्फरनगर के टोल को मुफ्त कर दिया। हालांकि मथुरा और लखनऊ में टोल प्लाजा पर भारी पुलिस बल तैनात है।

इसके अलावा राजस्थान बॉर्डर से आज हजारों किसान ट्रैक्टर मार्च निकालकर दिल्ली की ओर कूच करेंगे। वे आज दिल्ली-जयपुर हाईवे (Delhi-Jaipur Highway) बंद करेंगे। कुछ किसान जयपुर-दिल्ली हाईवे पर शाहजहांपुर पहुंच चुके हैं, वहीं बाकी किसान संगठन 11 बजे तक शाहजहांपुर पहु़चेंगे।

हरियाणा पुलिस ने राजस्थान के किसानों को दिल्ली की ओर बढने से रोकने के लिए शाहजहांपुर बोर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी है। किसान संगठनं का कहना है कि सरकार से बातचीत के दरवाजे खुले हैं, लेकिन कानूनों वापसी के अलावा उन्हें कुछ भी मंजूर नहीं है।

आंदोलन को धार देने के लिए आक्रामक स्वभाव और पारंपरिक हथियारों से पहचाने जाने वाले निहंग सिखों ने भी किसानों को समर्थन देने का फैसला किया है। देश के कोने-कोने से निहंगों के जत्थे दिल्ली पहुंच रहे हैं। बृहस्पतिवार और शुक्रवार को भी सिंघु बॉर्डर पर कई जत्थों ने दस्तक दी।

किसान आंदोलन के बीच कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार ने किसान यूनियनों को जो प्रस्ताव भेजा था, उसका अब तक कोई जवाब नहीं आया है। हमें मीडिया के माध्यम से सूचना मिल रही है कि किसान संगठनों ने प्रस्ताव को खारिज कर दिया है, लेकिन हमें इसकी कोई सूचना नहीं दी गई। यदि किसानों को किसी प्रावधान पर कोई आशंका है तो हम अब भी बातचीत के लिए तैयार हैं। ये कानून किसानों की बेहतरी के लिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles