नए कृषि क़ानूनों के विरोध में अब महाराष्ट्र के किसानों ने भी केंद्र के खिलाफ विरोध का बिगुल फूंक दिया है। प्रदेश के लाखों किसान सड़कों पर उतर आए। किसानों ने अब मुंबई की और कूच कर दिया। 21 जिलों के हजारों किसान शनिवार को नासिक में इकट्ठा हुए और अब राजधानी मुंबई की और मार्च कर रहे है।

अखिल भारतीय किसान महासभा के बैनर तले विभिन्न छोटे-छोटे किसान सगठनों से जुड़े किसान नासिक और मुंबई के बीच कसारा घाट क्षेत्र की सड़क पर देखे जा सकते है। वायरल विडियो में किसानों का हुजूम दिखाई दे रहा है। ये सभी किसान सोमवार को आजाद मैदान में आयोजित रैली में हिस्सा लेंगे। इस रैली में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के सुप्रीमो शरद पवार भी शामिल होंगे।

हाल ही में शरद पवार ने किसानों का समर्थन करते हुए किसानों की मांगें न मानने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना की थी। शरद पवार ने कहा था कि किसान इतनी ठंड में किसान दिल्ली के आसपास प्रदर्शन कर रहे हैं, किसानों की भावनाओं को समझने में नाकाम रहने पर तो केंद्र को अंजाम भुगतने पड़ेगा।

एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा लाए गए तीन काले कानून किसान विरोधी हैं। हमारी आवाज महाराष्ट्र से मुंबई तक पहुंचनी चाहिए। हम मुंबई तक मार्च करेंगे और फिर 26 जनवरी को दिल्ली पहुंचेंगे।

गणतंत्र दिवस के अवसर पर ‘किसान गणतंत्र परेड’ में हिस्सा लेने के लिए देशभर के किसान दिल्ली की ओर मार्च कर रहे हैं। पंजाब, हरियाणा और राजस्थान से ट्रैक्टर टिकरी बॉर्डर पर पहुंच गए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने किसानों को 23 से 26 जनवरी तक आंदोलन में भाग लेने के लिए कहा है।