राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने आंदोलन में बाधा डालने की साजिश रचे जाने के मामले में एक संदिग्ध को पकड़ा है।

पकड़े गए संदिग्ध को लेकर किसान यूनियन ने दावा किया कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च के दौरान चार किसान नेताओं को गोली मारने की साजिश भी रची गई। आरोपी ने इसके लिए कथित तौर पर सोनीपत के राई थाने के एक पुलिस अधिकारी का नाम लिया है।

युवक ने बताया, ”हमारा प्लान यह था कि जैसे ही किसान ट्रैक्टर मार्च को लेकर दिल्ली के अंदर घुसने की कोशिश करेंगे तो दिल्ली पुलिस इन्हें रोकगी। इसके बाद हम पीछे से फायरिंग करेंगे ताकि पुलिस को लगे की गोली किसानों की तरफ से चलाई गई है।” शख्स ने आगे कहा, ”रैली के दौरान कुछ लोग पुलिस की वर्दी में भी होंगे ताकि किसानों को तितर बितर किया जा सके।”

शख्स ने यह भी बताया कि मार्च के दौरान स्टेज पर मौजूद चार किसान नेताओं को शूट करने का आर्डर है। इन नेताओं की फोटो भी दे दी गई है। बड़ी बात यह है कि शख्स ने प्रदीप नाम के एक एसएचओ का नाम भी लिया है, जो राई थाने का है और इनके पास अपना चेहरा कवर करके आता था।

शख्स ने बताया कि हम लोगों ने उसका बैज देखा था। शख्स ने बताया कि जिन चार नेताओं को शूट करने का आदेश था, उनका नाम मुझे नहीं पता है। किसानों ने इस शक्स को अब दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया है। आरोपी योगेश सोनीपत के न्यू जीवन नगर का निवासी बताया जा रहा है। पुलिस के मुताबिक वह 9वीं फेल है। उसका पहले कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं रहा है।