नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्र नजीब अहमद को लापता हुए दो साल होने जा रहे हैं। बावजूद अब तक उसके बारें में कोई सुराग नहीं लगा है। देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई ने भी अपनी हार मान ली है।

दरअसल, मामले की सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कोर्ट में कहा है कि वो एक क्लोजर रिपोर्ट फाइल करना चाहती है। क्योंकि नजीब का पता लगाने के लिए सभी पहलुओं की जांच की गई लेकिन सफलता नहीं मिली है। वही नजीब की मां ने सीबीआई की ओर से दायर की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है और मामले की फिर से जांच की डिमांग की है।

सीबीआई का कहना है कि वो इस मामले में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करना चाहती है क्योंकि सारे पहलुओं पर विस्तृत जांच की गई है लेकिन नजीब को ढूंढने में वह नाकाम रही है। दूसरी और नजीब अहमद की मां ने सीबीआइ द्वारा दायर की गई स्टेटस रिपोर्ट और इस मामले की दोबारा जांच की मांग की है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि नजीब अहमद 15 अक्टूबर 2016 से गायब है। उसके साथ ABVP के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर मारपीट की थी। जिसके बाद से ही वह लापता है। जिसके बाद उसकी मां ने उसे तलाश करने के लिए प्रत्यक्षीकरण याचिका हाईकोर्ट में दायर कर रखी है।

इस पूरे मामले में दिल्ली पुलिस भी जांच कर चुकी है। कोई सुराग ना मिलने पर केस, दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई को 16 मई 2017 को सौंप दिया था, लेकिन अभी तक इस केस में पुलिस और सीबीआई दोनों के हाथ खाली हैं।

Loading...