नई दिल्ली : सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक की सार्वजनिक नीति मामलों की प्रमुख अंखी दास ने पद से इस्तीफा दे दिया। उन पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नफरत फैलाने वाली टिप्पणियों को लेकर पाबंदी लगाने के मामले में कथित पक्षपात करने का आरोप था।

फेसबुक इंडिया के एमडी अजीत मोहन (Facebook india MD Ajit Mohan) ने बताया कि अंखी दास ने फेसबुक में अपने पद से हटने का फैसला किया है। अंखी ने आम लोगों की सेवा में अपनी रुचि के चलते काम करने के लिये यह कदम उठाया है। उन्होंने कहा कि अंखी हमारे उन पुराने कर्मचारियों में शामिल हैं, जिन्होंने भारत में कंपनी को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई। कंपनी से वह पिछले नौ साल से ज्यादा समय से जुड़ी थीं।

पिछले सप्ताह अंखी दास संसदीय समिति के समक्ष पूछताछ के लिए पेश हुई थीं। मामला डाटा की निजता को लेकर जुड़ा था। दास पर आरोप लगाया गया था कि वह बीजेपी और अन्य राइट विंग लीडर्स के खिलाफ हेट स्पीच नियमों को लागू करने का विरोध कर रही हैं।

अमेरिकी अखबार द वॉल स्ट्रीट जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि अंखी दास ने भाजपा विधायक के हेट स्पीच वाले पोस्ट पर ऐक्शन लेने से अपनी टीम को रोका था। उन्होंने बीजेपी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई से बिजनेस को नुकसान होने की बात कही थी।

जिसके बाद मानवाधिकार सहित कई संगठनों ने फेसबुक से दास को तब तक छुट्टी पर भेजने को कहा था, जब तक कंपनी अपने भारतीय ऑपेरशन के ऑडिट का काम पूरा नहीं कर लेती है। इस मामले में कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि फेसबुक और वॉट्सऐप बीजेपी-आरएसएस के नियंत्रण में है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano