ig darapuri
चन्दन के सलीम की बालकनी से गोली लगना संदिग्ध है - आईजी दारापुरी
ig darapuri
चन्दन के सलीम की बालकनी से गोली लगना संदिग्ध है – आईजी दारापुरी

जैसे जैसे कासगंज का मामला टूल पकड़ता जा रहा है वैसे वैसे नित नए खुलासे होते जा रहे हैं, एक के बाद एक विडियो सामने आ रहे है जिसमे कुछ नयी बातें भी निकलकर सामने आती जा रही है.

पुलिस के FIR में जिस व्यक्ति को आरोपी बनाया गया है उसके घर के बाहर जाकर कुछ लोगो ने हकीकत को जानने की कोशिश की जिसमे चौकाने वाले खुलासे हुए हैं. विडियो में उत्तर प्रदेश के पूर्व आईजी एस.दारापुरी ने फेसबुक पर लाइव आकर चन्दन की मौत को पूरी तरह संदिग्ध करार दिया है. उन्होंने कहा की पुलिस यह कह रही है की गोली आरोपी सलीम की बालकनी से चलायी गयी है जबकि गोली चन्दन की बांह पर लगी हुई बताई जा रही है. ऊपर से चली गोली हमेशा तिरछी लगती है लेकिन चन्दन की बांह पर ऐसा लगता है की गोली सामने से चली है.

वहीँ दूसरी बात यह की पुलिस ऍफ़आईआर घटना होने के 10 घंटे विलम्ब से लिखी गयी है जबकि वहां से थाना थोड़ी ही दूरी है वहीँ चन्दन के भाई का कहना है की ‘हम लोग चन्दन की बॉडी को उठाकर सीधे थाने ले गये थे’ तो ऐसे में पुलिस ने एफआईआर लिखने में इतना विलम्ब क्यों लगाया?.पुलिस की इस रिपोर्ट में 40 लोगो को नामज़द किया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ इस विडियो में सबसे बड़ा खुलासा, खुद को चश्मदीद बताने वाले मोहम्मद शाकिर ने बेहद सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा की ‘जब वो लोग गंदे नारे लगाते हुए घुसे तो यहाँ मौजूद हिन्दू-मुसलमानों ने मिलकर उन लोगो पर पथराव किया जिससे की वो लोग यहाँ से भाग जाएँ क्योंकी बच्चों की स्कूल की छुट्टी का समय हो रहा था और अधिकतर अभिभावक यहाँ मौजूद थे’. उन्ही की तरफ से फायरिंग हो रही थी.

यह विडियो सामाजिक कार्यकर्ता शहीद चौधरी ने अपने फेसबुक विडियो से लाइव टेलीकास्ट किया है 

देखें यह विडियो

 

नोट – यह विडियो शहीद चौधरी की फेसबुक वाल स एलिया गया है कोहराम न्यूज़ विडियो में दिए गये बयानों के सत्यता की पुष्टि नही करता