भोपाल | उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अप्रत्याशित परिणाम आने के बाद विपक्षी दलों ने ईवीएम मशीन में छेड़छाड़ का आरोप लगाया था. मायावती और अरविन्द केजरीवाल ने अपनी हार के लिए ईवीएम् को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा था की मशीन में छेड़छाड़ हुई है और इसकी जांच होनी चाहिए. हालाँकि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है लेकिन चुनाव आयोग यह मानने के लिए तैयार नही है की ईवीएम में छेड़छाड़ संभव है.

उधर मध्य प्रदेश में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमे चुनाव आयुक्त के सामने ईवीएम् मशीन को चेक किया गया. लेकिन चौकाने वाली बात यह रही की किसी भी उम्मीदवार का बटन दबाने के बावजूद ‘कमल’ के निशान की पर्ची बाहर निकल रही थी. इस पूरी घटना की एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. इस विडियो में चुनाव आयुक्त को पत्रकारों को धमकाते हुए भी दिखाया गया है.

दरअसल मध्य प्रदेश के अटेरा विधानसभा के लिए 9 अप्रैल को उप चुनाव होने है. इन चुनावो में ईवीएम के साथ VVPAT ( वोट डालने के बाद पर्ची निकलने वाली मशीन) का भी इस्तेमाल होगा. शुक्रवार को चुनाव आयोग ने मशीन की जानकारी देने के लिए कुछ पत्रकारों को बुलाया. इस दौरान वहां मुख्य चुनाव आयुक्त सेलिना सिंह भी मौजूद थी. उन्होंने ही ईवीएम् में बटन दबाकर दिखाया की जब हम वोट डालते है तो उसी पार्टी के चुनाव चिन्ह की एक पर्ची मशीन से बाहर आती है.

लेकिन सब तब चौंक गए जब किसी भी पार्टी का बटन दबाने पर पर्ची बीजेपी की ही निकल रही थी. इसको देखकर सेलिना सिंह के होश उड़ गए. उन्होंने सभी पत्रकार को धमकाते हुए कहा की पर्ची पर कुछ भी आये तुम्हे यह खबर बाहर प्रेस में नही देनी है, नहीं तो तुम्हे थाने में बैठाकर रखेंगे. इस तरह का विडियो सामने आने के बाद अरविन्द केजरीवाल ने प्रतिक्रीया दी है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा की क्या अपने यह विडियो देखा है. इसके बाद चुनाव का कोई मतलब रह गया है क्या? केजरीवाल के अलावा मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट कर लोकतंत्र खत्म होने का आरोप लगाया. उन्होंने लिखा की बटन कोई भी दबाओ, वोट कमल को पड़ेगा, पर्ची कुछ भी दिखाए यह खबर बाहर नही जानी चाहिए नही तो थाने में बिठाकर रखेंगे. लोकतंत्र खत्म.

देखे विडियो 

 

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?