प्रवर्तन निदेशालय ने जाकिर नाईक की 8.37 करोड़ की संपत्ति को किया जब्त

सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय ने विवादास्पद सलाफी उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ बड़ी कारवाई करते हुए 18.37 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर ली है.

प्रवर्तन निदेशालय ने 200 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग केस में ये संपति जब्त की हैं. इसी के साथ जाकिर नाइक को एनआइए ने एक और नोटिस जारी कर 30 मार्च तक एनआइए मुख्यालय में उपस्थित होने को कहा है. एनआईए के एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई के मझगांव इलाके में स्थित नाइक के आवास ‘जैस्मिन अपार्टमेंट्स’ समन पहुंचाया दिया गया है.

इससे पहले ईडी ने जाकिर नाइक और IRF से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में पिछले महीने उनके एक साथी को गिरफ्तार भी किया था. इस मामलें में ईडी इसी महीने जाकिर नाईक की बहन नइलाह नौशाद नूरानी से भी पूछताछ कर चुकी हैं.

ईडी का कहना हैं कि अपनी जांच में साबित किया कि जाकिर नाइक और उसके एनजीओ ने करीब 200 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की है. इसमें से 50 करोड़ रुपये नइलाह के बैंक खातों में जमा किए गए हैं. हाल ही में दिल्ली हाईकोर्ट ने भी नाइक के बैंक खातों पर लगाई गई रोक को हटाने वाली याचिका को खारिज कर दिया. कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि गृह मंत्रालय के पास उनके बैंक खातों पर बैन लगाने के लिए ठोस सबूत हैं.

विज्ञापन