मुंबई | करीब डेढ़ महीने पहले मिश्र की ईमान अहमद को इलाज के लिए मिश्र से मुंबई लाया गया था. ईमान को दुनिया की सबसे वजनी महिला बताया जाता है. उनका वजन करीब 500 किलो है. वो पिछले 25 सालो से एक ही कमरे में बंद थी और इतने सालो बाद उसको मुंबई लाने के लिए कमरे से बाहर निकाला गया. इसके लिए एक क्रेन की सहायता ली गयी. यहाँ ईमान का इलाज मुंबई के सैफी अस्पताल में किया जा रहा है.

ईमान का इलाज कर रहे डॉ. मुफ्फजल लकड़ावाला ने दावा किया था की उसका वजन 200 किलो से ज्यादा कम हो चूका है. लेकिन मंगलवार को ईमान की बहन साईमा ने डॉक्टर के दावों को झुठला दिया. उन्होंने कहा की ईमान की सेहत में कोई सुधार नही हो रहा है और डॉक्टर हमें बेवकूफ बना रहे है. इस पर डॉक्टर ने सफाई दी की ईमान की बहन आर्थिक कारणों से यह आरोप लगा रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी मामले में बुधवार को एक और नाटकीय मोड़ आया. डॉ लाकडावाला के साथ ईमान का इलाज कर रही डॉ अपर्णा गोविल भास्कर ने इस्तीफा दे दिया. बताते चले की अपर्णा तीन महीने पहले ईमान को लेने मिश्र भी गयी थी. उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर इस्तीफे के बारे में बताते हुए लिखा की कुछ घटनाये आपकी जिन्दगी बदल देती है. तीन महीने पहले मैंने ईमान की मदद करने के लिए उसे मिश्र से भारत लाने गयी थी.

अपर्णा ने आगे लिखा की बाकी जो हुआ वो इतिहास है. लेकिन मैं वादा करती हूँ की जब मेरा तीन साल का बेटा बड़ा होगा तो मैं उसे कभी भी मेडिकल लाइन में करियर बनाने नही दूंगी. इस पोस्ट में अपर्णा ने ईमान की बहन के एक विडियो पर भी अपनी पीड़ा जाहिर की. अपर्णा मुंबई के सैफी अस्पताल में बैरिएट्रिक सर्जरी की सेक्शन चीफ हैं. उनका इस तरह इस्तीफा देना कुछ सवाल जरुर पैदा करता है. इसके बाद साईमा के सवालों पर एक बार फिर विचार करने की जरुरत है.

Loading...