Saturday, January 22, 2022

लवासा के विरोध के बाद पीएमओ को दी गई क्लीन चिट पर पुनर्विचार करेगा चुनाव आयोग

- Advertisement -

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने चुनाव आयुक्त अशोक लवासा के विरोध के बाद आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में नीति आयोग और प्रधानमंत्री कार्यालय को क्लीन चिट देने के मामले में फिर से विचार करने का फैसला किया है।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी रैलियों को लेकर गोंडिया, वर्धा और लातूर के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए पीएमओ द्वारा नीति आयोग के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने आयोग से शिकायत की थी। पिछले हफ्ते चुनाव आयोग ने इस मामले का निपटारा करते हुए नीति आयोग और पीएमओ को क्लीनचिट दे दिया था।

कांग्रेस ने अपनी शिकायत में कहा था कि महाराष्ट्र के लातूर, गोंदिया और वर्धा में चुनाव रैली से पहले पीएमओ की तरफ से सूचना एकत्रित करने में नीति आयोग का दुरुपयोग करने की बात कही थी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बातचीत करते हुए 12 मई को डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर संदीप सक्सेना ने पत्रकारों को बताया था कि चुनाव आयोग को कांग्रेस की शिकायत में कोई मेरिट नहीं दिखाई दी। संडे एक्सप्रेस को यह पता लगा कि चुनाव आयोग ने अपना फैसला चुनाव आयुक्त अशोक लवासा के आग्रह के बावजूद दिया था।

लवासा ने इस मामले में नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत से इस संबंध में स्पष्टीकरण मांगने को कहा था कि क्या उन्होंने गोंदिया, वर्धा और लातूर के कलेक्टरों से सूचना मांगी थी। क्या इस सूचना का प्रधानमंत्री के दौरे के लिए प्रयोग किया गया था। पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ इस शिकायत को मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने शिकायत को खारिज कर दिया था।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles