देहरादून | सोमवार रात 10 बजकर 35 मिनट पर पुरे उत्तर भारत में भूकंप के झटके महसूस किये गए जिससे चारो और अफरा तफरी मच गयी और लोग घर से बाहर निकलकर भागने लगे. भूकंप का केंद्र उत्तराखंड का रुद्रप्रयाग बताया जा रहा है. उधर किसी भी अनहोनी से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने एनडीआरऍफ़ की दो टीम उत्तराखंड के लिए रवाना कर दी है. इस घटना में एक महिला की मौत की भी खबर है.

सोमवार रात को उत्तर भारत के लगभग सभी जगहों पर अचानक से धरती हिलनी शुरू हो गयी. ऊँची ऊँची बिल्डिंग में रहने वाले लोगो को भूकंप का ज्यादा अहसास हुआ. झटके महसूस करने के बाद काफी लोगो के ने सोशल मीडिया पर इसके बारे में जानकारी शेयर की. भूकंप के झटके करीब 15 सेकंड तक महसूस होते रहे. मौसम विभाग के अनुसार भूकंप की तीव्रता रियक्टर स्केल पर 5.8 नापी गयी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भूकंप का केंद्र उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग के पीपलकोटी में बताया जा रहा है. धरती के नीचे करीब 33 किलोमीटर अन्दर इस भूकंप का केंद्र था. जानकारों के अनुसार धरती के अन्दर बहुत कम दूरी पर भूकंप का केंद्र होने के बावजूद इससे जान माल की ज्यादा हानि नही हुई. उसका कारण भूकम की तीव्रता कम होना बताया जा रहा है. अगर यह भूकंप 6 या उससे थोड़ी तीव्रता का होता तो यह तबाही मचा सकता था.

भूकंप की वजह से उत्तराखंड कालीमठ में एक मकान के गिरने से एक महिला की मौत हो गयी. वही अभी नुक्सान की और कोई खबर नही है. मिली जानकारी के अनुसार भूकंप दोबारा रात को 1 बजकर 52 मिनट पर भी महसूस किया गया. दोबारा भूकंप आने से लोगो में और दहशत का माहौल पैदा हो गया. देहरादून और एनसीआर रीजन में लोग घर से बाहर निकलकर भागते हुए दिखे. यहाँ तक की कुछ न्यूज़ चैनल के एंकर भी भूकंप के समय भयभीत हो गए.

Loading...