59218169

महाराष्ट्र के शिरडी में द्वारकामाई मस्जिद के साइनबोर्ड को हटाकर ‘द्वारकामाई मंदिर’ वाले बोर्ड लगाने का मामला सामने आया है। इस घटना के बाद स्थानीय मुस्लिमों में काफी गुस्सा है। मुस्लिम समुदाय ने ‘भगवा’ बोर्ड और ध्वजों को आठ दिन के अंदर हटाने का समय दिया है।

अंग्रेजी वेबसाइट की खबर के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि शिरडी साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट का भगवाकरण हो रहा है। आरोप है कि जब से कुछ नए सदस्यों और नई कमिटी ने इस पवित्र धार्मिक स्थल के बोर्ड में कामकाज संभाला, लगभग सभी साइनबोर्ड के रंग बदल गए।

Loading...

शिरडी साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट के सीईओ के पास हाल ही में एक चिट्ठी भी भेजी गई थी। इस मामले से जुड़ी सभी शिकायतों को इस चिट्ठी में जगह दी गई है। शिकायत के मुताबिक, धर्मस्थल की देखभाल के तरीके और धर्मस्थल में कुछ बदलाव किए गए हैं, ताकि इसे एक खास धर्म से जोड़कर दिखाया जा सके।

mosq

यह मामला ऐसे वक्त में सामने आया है, जब कुछ वक्त पहले ही 17 से 19 अक्टूबर तक शिरडी साईं बाबा समाधि के शताब्दी समारोह का आयोजन हुआ था। इस दौरान ट्रस्ट को करीब छह करोड़ रुपये का चंदा भी मिला था।

इस तीन दिवसीय कार्यक्रम में देशभर से करीब तीन लाख श्रद्धालु यहां आए थे। माना जाता है कि इस पवित्र जगह पर ही साईं बाबा ने 15 अक्टूबर 1918 को समाधि ली थी।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें