गोरखपुर । क़रीब 9 महीने पहले उत्तर प्रदेश की बागडौर सम्भालने वाले योगी आदित्यनाथ, शुरुआत से ही जनता की समस्या सुनने के लिए जनता दरबार लगाते है। जनता दरबार के ज़रिए वह क़रीब 300-400 लोगों की समस्याओ से रूबरू होते है और उनका समाधान निकालने की कोशिश करते है। सीधे मुख्यमंत्री से अपनी समस्या बताने का यह एक अच्छा ज़रिया है।

इसी क्रम में उन्होंने रविवार को गोरखपुर में जनता दरबार लगाया। इस दौरान उन्होंने क़रीब 400 लोगों की समस्याये सुनी। इन 400 फरयादियो में एक माँ भी थी जो अपने बेटे के लिए योगी से न्याय की उम्मीद लेकर पहुँची थी। यह माँ कोई और नही बल्कि बीआरडी अस्पताल के डॉक्टर कफ़ील की माँ थी। इन्होंने योगी से मिलकर कहा कि उनका बेटा बेक़सूर है। मैं आपसे इंसाफ़ की गुहार लगाती हूँ।

डॉक्टर कफ़ील की माँ ने यह भी कहा की उनके बेटे को ग़लत तरीक़े से फँसाने की कोशिश हुई है। इस दौरान योगी ने कफ़ील की माँ को न्याय का भरोसा दिलाया और कहा की किसी भी निर्दोष को सज़ा नही मिलेगी। मालूम हो कि इसी साल अगस्त महीने में गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में ऑक्सिजन की कमी की वजह से कई बच्चों की मौत हो गयी थी। उस समय अस्पताल प्रशासन को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया गया।

इसमें डॉक्टर कफ़ील का नाम भी शामिल था। उन पर निजी प्रैक्टिस करने का आरोप था। हालाँकि शुरुआत में डॉक्टर कफ़ील एक हीरो की तरह पेश किए गए थे। तब बताया गया कि जब बच्चे ऑक्सिजन की कमी की वजह से तड़प रहे थे तो डॉक्टर कफ़ील ने अपने खर्चें से कई ऑक्सिजन सिलेंडर मँगाए। लेकिन बाद में योगी सरकार की तरफ़ से बयान आया की डॉक्टर कफ़ील अस्पताल के ऑक्सिजन सिलेंडर का इस्तेमाल अपने निजी क्लीनिक में करते है।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें