बीजिंग | करीब दो महीने से सिक्किम के पास डोकलाम इलाके को लेकर भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध समाप्त हो गया है. सोमवार को भारत के विदेश मंत्रालय की और से जारी बयान में कहा गया की दोनों देश डोकलाम से अपनी अपनी सेनाये पीछे हटाने पर राजी हो गए है. लेकिन चीन की और से जारी बयान में विरोधाभास दिखाई दे रहा है. उनका कहना है की भारतीय सेना इलाके से पीछे हट रही है लेकिन उनकी सेना अभी भी वहां गश्त कर रही है.

जैसे ही यह खबर भारतीय मीडिया और सोशल मीडिया में वायरल हुई, चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने बयान जारी कर इस बात पर जोर देने की कोशिश की, की भारत ने इलाके से अपनी सेना पीछे हटा ली है. उन्होंने चीनी सैनिको को पीछे हटाने की बात को टालने की कोशिश की. उन्होंने कहा की भारत ने घुसपैठ करने वाले सभी सैनिकों, संसाधनों को सीमा पर भारत की तरफ वापस बुला लिया.

उन्होंने आगे कहा की हमारे सैनिको ने इस बात की पुष्टि की है. इस मामले को सुलझाने के लिए दोनों देशो के बीच किसी आपसी समझौते के सवाल को भी चुनयिंग ने टाल दिया. उन्होंने कहा की चीन ऐतिहासिक समझौतों के अनुरूप अपनी संप्रभुता को कायम रखेगा, क्षेत्रीय अखंडता बनाये रखेगा. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा की हमारे सैनिक अभी भी इलाके में गश्त कर रहे है.

उधर चीनी सेना के कर्नल वु शियान ने मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा की हम खुश है की यह मामला बातचीत के जरिये सुलझ गया. लेकिन भारत को इस मुद्दे से सबक लेना चाहिए. हम अभी भी इस मामले में चौकन्ने रहेंगे और अपनी संप्रभुता की रक्षा करेंगे. शियान ने आगे कहा की वो अन्तराष्ट्रीय नियमो का पालन करते हुए भारत के साथ काम करना चाहते है. इस तरह मामला सुलझाने से इलाके में भी शांति रहेगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?