chalo

chalo

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा देश में नेशनल मेडिकल कमिशन बिल का लागू करने से पहले ही डॉक्टरों ने विरोध करना शुरू कर दिया है.

इस बिल के विरोध में डॉक्टरों ने एम्स से संसद भवन तक मार्च निकाला है. इस मार्च में एम्स, सफदरजंग, लेडी हार्डिंग सहित दिल्ली के विभिन्न मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर व मेडिकल छात्र शामिल थे. हालांकि जैसे वे एम्स से मार्च के लिए निकले तो पुलिस ने उन्हें आईएनए मेट्रो स्टेशन पर रोक लिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले साल 15 दिसंबर में इस एनएमसी बिल को स्वीकृति दी थी. केंद्र सरकार इसके जरिए भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) को खत्म कर उसकी जगह नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) बनाना चाहती है.

इसके लिए एनएमसी को एक बार फिर इस हफ्ते लोकसभा में पेश किया जाएगा. एम्स रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. हरजीत सिंह भट्टी का कहना है कि नेशनल मेडिकल काउंसिल में संसोधिन करना जरूरी है. अगर केंद्र सरकार बिना किसी संशोधन के इस कानून को देश में लागू करती है तो ये चिकित्सा वर्ग के खिलाफ होगा.

Loading...