राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने अब हिन्दुओं से अपने बच्चों को अंग्रेजी मीडियम स्कूल में न पढ़ाने की बात कही है. उनका ये बयान संघ पदाधिकारियों के साथ बैठक में आया है.

अलग-अलग प्रांतों के संघ चालकों और पदाधिकारियों के साथ बैठक के दौरान उन्होंने कहा, अपने बच्चों को अंग्रेजी मीडियम स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहिए. उन्होंने दावा किया कि दुनियाभर में कई ऐसे सर्वे हुए हैं जिससे साबित हुआ है कि अपनी मातृभाषा में पढ़े बच्चे ही आगे जाकर बुद्धिमान बनते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भागवत की इस सलाह पर एक पदाधिकारी ने सवाल उठाया कि शिशु मंदिरों में (संघ के स्कूलों में) भी इंग्लिश मीडियम में पढ़ाने के लिए दबाव बढ़ रहा है. कई पैरंट्स इसके लिए कहते हैं. तब भागवत ने कहा कि ‘हमें किसी के भी दबाव में नहीं आना चाहिए.’

साथ ही उन्होंने संघ प्रचारकों को सलाह दी कि वे ई-मेल को छोड़कर बाकी किसी भी तरह के सोशल मीडिया से दूर रहें. संघ प्रमुख ने कहा कि सोशल मीडिया से गलत जानकारी मिलती है और वक्त भी बर्बाद होता है. हालांकि संघ खुद अपने विचारों को लोगों तक पहुंचाने के लिए जमकर सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता है.

हालांकि ये पहली बार नहीं है कि अंग्रेजी भाषा को लेकर संघ की और से इस तरह का बयान आया हो. इससे पहले भी कई मौकों पर ऐसे बयान आ चुके है.

Loading...