आतंकवाद को धर्म से जोड़े जाने पर केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि देश के मुसलमान कभी बहकावे में नहीं आए। उन्होंने कहा कि आतंकवाद को कभी जाति और धर्म से जोड़कर नहीं देखना चाहिए। आज दुनिया के इस्लामी देश भी आतंकवाद की निंदा कर रहे हैं। इस्लामी देश भी पाकिस्तान पर दबाव बना रहे हैं।

उन्होने मुस्लिम समुदाय की तारीफ करते हुए कहा कि कट्टरपंथ हमारे देश में नहीं बढ़ा, इसके लिए मैं अपने देश के मुसलमानों को बधाई देना चाहता हूं। इस दौरान गृहमंत्री ने पाकिस्तान को लेकर भी बात की। उन्होने कहा, हमने हमेशा पाकिस्तान के साथ बेहतर रिश्ते बनाने का प्रयास किया है। लेकिन पाकिस्तान अपना तौर-तरीका नहीं बदल रहा है। वह जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद प्रायोजित करना जारी रखे हुए है। इसलिए वह दुनिया में अलग-थलग पड़ गया है।

जम्मू-कश्मीर में आगामी पंचायत और शहरी स्थानीय निकायों के चुनावों का हवाला देते हुये गृह मंत्री ने कहा कि राज्य के 90 प्रतिशत लोग चुनावी प्रक्रियाओं में शामिल होंगे जिसे मौजूदा सरकार ने लंबे समय के बाद शुरू की है। स्थानीय निकायों में भाजपा के कई प्रत्याशियों के निर्विरोध चुने जाने के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा कि हाल में पश्चिम बंगाल में आयोजित पंचायत चुनाव में 43 प्रतिशत प्रत्याशी निर्विरोध चुने गये और ऐसी चीजें असामान्य नहीं है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने भाजपा और पीडीपी के बीच टूट चुके गठबंधन के बारे में कहा कि पिछले राज्य विधानसभा चुनाव के जनादेश का सम्मान करते हुये दोनों दलों ने हाथ मिलाया लेकिन ‘‘प्रयोग सफल नहीं हुआ।’’ सिंह ने कहा कि कुछ साल पहले तक नक्सलवाद राष्ट्र के समक्ष एक बड़ी चुनौती था लेकिन उसपर एक हद तक अंकुश लगाया जा चुका है।

कुछ संस्थानों पर भाजपा के कब्जे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर सिंह ने कहा कि ये ‘आरोप निराधार’ हैं। उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें (गांधी) कम से कम एक उदाहरण देना चाहिए जिसमें यह हुआ हो। हमने हमेशा देश में हर संस्थान की गरिमा बनाए रखा है।’’

Loading...