nilam

आमतौर पर बड़े पदों पर विराजमान शख्सियत अपने बच्चों को बड़े स्कूलों में ही पढ़ाती है। लेकिन उत्तराखंड के चमोली की डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (जिलाधिकारी) स्वाति भदौरिया ने बड़ी मिसाल पेश की है। उन्होंने अपने दो वर्षीय बेटे का दाखिला आंगनबाड़ी में कराया।

स्वाति ने अपने बेटे का गोपेश्वर गांव के आंगनबाड़ी सेंटर में दाखिला कराया। बेटे को दाखिला दिलाने स्वाति खुद आंगनबाड़ी केंद्र लेकर पहुंचीं। दाखिले के बाद स्वाति के बेटे को आंगनबाड़ी केंद्र की कक्षा में बच्चों के साथ बिठाया गया।दाखिला कराने के बाद डीएम स्वाती अपनी ड्यूटी पर चली गईं।

इस दौरान बच्चे ने केंद्र में अन्य बच्चों के साथ क्लास में खेल-खेल में पढ़ने की शुरुआत की और अन्य बच्चों की तरह साथ बैठकर यहीं का बना भोजन किया। आंगनबाड़ी केंद्र की वालंटियर मंजू भट्ट ने बताया, मंगलवार को अभ्यूदय का पहला दिन था. उसने पहले दिन बाकी बच्चों की तरह वहीं की बनी खिचड़ी खाई।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ANI से बात करते हुए स्वाति ने कहा- आंगनबाड़ी केंद्र में आम बच्चों के साथ रहकर बच्चा सोशल, मेंटल, फिजिकल ग्रोथ करेगा तथा आम बच्चों के बीच रहकर बच्चे का विकास होगा। स्वाती ने बताया- ‘मेरे बच्चे ने अन्य बच्चों के साथ खाना खाया और जब वो वापस आया तो बहुत खुश था।’

बता दें, चमोली की डीएम स्वाती के पती नितिन भदौरिया भी आईएएस ऑफिसर हैं। जिनकी पोस्टिंग अलमोड़ा में डीएम हैं।

Loading...