AMU के इतिहासकार प्रो. इरफान हबीब ने कहा कि देश में एएमयू में लड़कियों के साथ भेदभाव होता है। उन्होंने लड़कियों के साथ भेदभाव को खत्म करने की मांग की हैं। इरफान हबीब के अनुसार AMU में लड़कियों का एडमिशन 75 प्रतिशत और लड़कों का एडमिशन 65 प्रतिशत पर होता है।

लड़कियो को ज्यादा अंक होने के बावजूद भी कम एडमिशन मिलते है जबकि लड़कों को कम अंको पर भी एडमिशन मिल जाता है. उन्होंने आगे कहा कि लड़कों की तुलना में लड़कियों के लिए हॉस्टल में कम जगह है। इरफान हबीब के इस बयान ने कुलपति के सामने नई मुसीबत खड़ी कर दी हैं।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?