Monday, July 26, 2021

 

 

 

अमेरिका सहित 17 देशों के राजनयिकों आज करेंगे कश्मीर का दौरा, यूरोपियन यूनियन ने रखा खुद को दूर

- Advertisement -
- Advertisement -

अमेरिकी राजदूत केन जस्टर समेत 16 देशों के राजनयिक आज से दो दिवसीय जम्मू-कश्मीर के दौरे पर है।  5 अगस्त को राज्य से विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद विदेशी राजनयिकों का यह पहला आधिकारिक दौरा होगा।

जानकारी के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने इस प्रतिनिधिमंडल को घाटी के दौरे के लिए आमंत्रित किया है। इसमें लैटिन अमेरिका और अफ्रीका के प्रतिनिधि शामिल होंगे।  यूरोपियन यूनियन इस दौरे का हिस्सा नहीं होगा। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि दिल्ली स्थित दूतावासों में तैनात ये राजनयिक बृहस्पतिवार को पहले श्रीनगर जाएंगे और वहां पर रात्रि प्रवास करेंगे। इसके बाद अगले दिन जम्मू जाएंगे।

अमेरिका के अलावा प्रतिनिधिमंडल में बांग्लादेश, वियतनाम, नार्वे, मालदीव, दक्षिण कोरिया, मोरक्को, नाइजीरिया और अन्य देशों के राजनयिक भी शामिल होंगे। ब्राजील के राजदूत को भी राज्य के दौरे पर जाना था लेकिन दिल्ली में अपनी व्यस्तता के चलते उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया।

यूरोपीय संघ के देशों के राजनयिकों ने सरकार को अवगत कराया कि वे किसी अलग तिथि को इस केंद्र शासित राज्य का दौरा करेंगे। दरअसल, वे राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों, फारुक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती से भी मुलाकात करना चाहते हैं, जो 5 अगस्त को राज्य का विशेष दर्जा समाप्त होने के बाद से ही हिरासत में हैं।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने एनडीटीवी से बताया, ‘श्रीनगर में उन्हें बादामी बाग ले जाया जाएगा, जहां सेना उन्हें सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी देगी। इसके बाद वे कुछ स्थानीय पत्रकारों सहित सिविल सोसाइटी के लोगों से मुलाकात करेंगे।’

ऑस्ट्रेलिया और कुछ अन्य गल्फ देशों के राजनयिक भी इसमें शामिल होने वाले थे, लेकिन वे किन्हीं वजहों से इसमें शामिल नहीं हो पाए। अधिकारियों ने बताया कि कई देशों के राजनयिकों ने सरकार से कश्मीर के दौरे का अनुरोध किया था। यह दौरा कश्मीर पर पाकिस्तान के प्रोपगेंडा की हकीकत से विदेशी राजनयिकों को अवगत कराने की सरकार की कोशिशों के तहत हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles