pm narendra modi in davos 620x400

pm narendra modi in davos 620x400

दावोस: स्विट्जरलैंड के दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी ने आतंकवाद को लेकर अपनाए जा रहे दोहरे रवैये को दुनिया के सामने पेश करते हुए कहा कि आतंकवाद से ज्यादा खतरनाक अच्छे आतंकवाद और बुरे आतंकवाद के बीच बनाया गया अंतर है.

इस दौरान आतंकवा दपीएम ने ग्लोबल वॉर्मिंग को दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती बताया. उन्होंने कहा, ‘विश्व में गर्मी बढ़ते जा रही है, ग्लैशियर्स पिघर रहे हैं. हमें आत्मचिंतन करने की जरूरत है. अगर हम सोचेंगे तो पाएंगे कि पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए हमें एकजुट होने की आवश्यकता है. हमें मानव और प्रकृति के बीच तालमेल बैठाना होगा.’

पीएम ने कहा, 1997 में जब जब पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा यहां आए थे तब भारत की जीडीपी 4 मिलियन डॉलर के करीब थी. अब दो दशक बाद करीब 6 गुना ज्यादा है. उन्होंने कहा कि 1997 से अब तक काफी कुछ बदल गया है. पहले चिड़ियां ट्वीट करती थी अब इंसान करते हैं. उस समय अगर आप इंटरनेट पर अमेजॉन टाइप करते तो नदियों और जंगलों की तस्वीर आती.

पीएम ने कहा कि आज डाटा सबसे बड़ी संपदा है. डाटा के ग्लोबल फ्लो से सबसे बड़े अवसर बन रहे हैं और सबसे बड़ी चुनौतियां भी. मोदी ने कहा कि ऐसा माना जा रहा है कि जो डेटा को काबू में रखेगा, वही भविष्य पर अपना वर्चस्व बनाएगा. मोदी ने कहा कि यह दरारों से भरी दुनिया में साझेदारी का वक्त है.

इस दौरान मोदी ने सवाल उठाया कि वो कौन सी शक्तियां हैं, जो दुनिया में सामंजस्य की जगह अलगाव चाहतीं है? पीएम मोदी ने जोर देते हुए कहा कि भारत हमेशा से वसुधैव कुटुम्बकम के मंत्र में विश्‍वास करता है, जिसका मतलब होता है कि पूरी दुनिया एक परिवार है और दूरियों को दूर करने के लिए यह अब भी प्रासंगिक है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें