Sunday, September 26, 2021

 

 

 

जम्मू-कश्मीर में 10000 अतिरिक्त जवानों की तैनाती, लोगों ने शुरू किया आवश्यक वस्तुओं का स्टॉक

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शहादत के बाद केंद्र सरकार ने श्रीनगर में 14 साल बाद सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को तैनात किया है. अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार ने बीएसएफ की 100 अतिरिक्त कंपनियां जम्मू-कश्मीर बुलवा ली है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों ने दिल्ली में बताया कि बीएसएफ की 35 सहित इस अर्धसैनिक बल की 100 कंपनियां लोकसभा चुनाव से पहले के नियमित अभ्यास के तहत तैनात की जा रही हैं. अधिकारियों ने यहां कहा कि बीएसएफ 14 साल के बाद घाटी में वापस बुलाई गई है. उन्होंने कहा कि बीएसएफ को 2016 में हुई अशांति के समय अस्थायी तौर पर एक हफ्ते के लिए कश्मीर में तैनात किया गया था, लेकिन उसे तुरंत वहां से हटा लिया गया था.

अधिकारियों ने बताया कि पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की स्थिति के बीच यह तैनाती की गई है. सरकार ने अलगाववादियों के खिलाफ भी बड़ा अभियान चलाया है और 150 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया. इनमें खासकर जमात-ए-इस्लामी जम्मू-कश्मीर शामिल है. इस संगठन के मुखिया अब्दुल हमीद फयाज को भी हिरासत में लिया गया है.    संविधान के अनुच्छेद 35-ए पर उच्चतम न्यायालय में होने वाली सुनवाई से पहले यह कार्रवाई की गई है. अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ श्रीनगर में चार और बडगाम जिले में एक जगह तैनात की गई है.

फाइल फोटो

इसी बीच कश्मीर घाटी विशेषकर श्रीनगर में लोगों ने आवश्यक वस्तुओं और ईंधन का स्टॉक करना शुरू कर दिया है. इस बीच, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात की और उनसे केंद्र की ओर से घाटी के लोगों को आश्वस्त करने के लिए एक बयान जारी करने का आग्रह किया.अफवाहों के फैलने के बाद ईंधन हासिल करने के लिए श्रीनगर शहर के पेट्रोल पंपों पर वाहनों की लंबी कतारें देखी गईं.

स्थानीय निवासी अदनान अयूब ने कहा, ‘हमने युद्ध की अफवाहों के बाद प्याज, आलू, विभिन्न प्रकार की दाल और सूखा दूध सहित आवश्यक चीजें खरीदी हैं. मैंने अपने पिता की दवा का भी स्टॉक किया है. सोशल मीडिया पर एक पत्र भी प्रसारित किया जा रहा है जिसमें कश्मीर स्वास्थ्य सेवा के निदेशक ने घाटी के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को क्षेत्रीय ड्रग्स वेयर -जीएमसी बेमिना से ड्रग, दवाओं, सर्जिकल डिस्पोजेबल वस्तुओं की व्यवहार्य आपूर्ति एकत्र करने का निर्देश दिया है. इसी प्रकार के पत्र जम्मू के स्वास्थ्य सेवा के निदेशक की ओर से भी सोशल मीडिया पर प्रसारित किया जा रहा है. हालांकि, पत्रों की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं की जा सकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles