Tuesday, May 17, 2022

देवबंद ने जारी किया फतवा – मस्जिद में औरतों को नहीं तरावीह पढ़ने की इजाजत

- Advertisement -

दारुल उलूम देवबंद की और जारी एक और फतवा चर्चा में है। जिसमें औरतों को तरावीह की जमात करने और मस्जिद में तरावीह की नमाज पढने को गलत करार दिया गया है। मुफ्तियों ने तर्क दिया कि फर्ज नमाज के लिए औरतों को मस्जिद में जाने की इजाजत नहीं तो तरावीह के लिए उन्हें कैसे इजाजत हो सकती है।

दरअसल, पाकिस्तान से एक व्यक्ति ने दारुल उलूम के मुफ्तियों से लिखित में सवाल किया था कि विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग तरीकों से औरतों की तरावीह की नमाज हो रही है। एक स्थान पर हाफिज को इमाम बनाकर औरतें नमाज-ए-तरावीह पढ़ रही हैं, जबकि दूसरी तरफ नाबालिग (कम उम्र) के बच्चे को इमाम बनाकर तरावीह अदा की जा रही है।

साथ ही कुछ एक स्थानों पर मस्जिदों में औरतों के लिए तरावीह का इंतजाम हो रहा है। इतना ही नहीं कई जगह ऐसी हैं जहां घर के अंदर हाफिज साहब तरावीह पढ़ा रहे हैं, जिनके पीछे मर्द नमाज अदा कर रहे हैं, जबकि उसी घर के दूसरे कमरे में पर्दे के साथ महिलाएं तरावीह पढ़ रही हैं।

burkaa

पूछा गया कि इनमें से किस तरीके से महिलाओं का तरावीह की नमाज पढ़ना सही है। सवालों के जवाब में मुफ्तियों ने कहा कि महिलाओं को तरावीह की नमाज घर के भीतर एकांत में अदा करनी चाहिए। क्योंकि महिलाओं को फर्ज नमाजों के लिए भी मस्जिदों में जाने की इजाजत नहीं है। नाबालिग की इमामत दुरुस्त नहीं और न ही उसके पीछे नमाज होगी।

इसके अलावा औरतों की तरावीह की नमाज अदा करने के लिए पूछे गए सभी तरीके बिल्कुल मना है। सिर्फ घर के भीतर एकांत में तरावीह की नमाज अदा करने की इजाजत है। देवबंद दारुल उलूम से जारी फतवा सोशल मीडिया पर तेजी के साथ वायरल हो रहा है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles