फतवों को लेकर विवादों मे रहने वाले सहारनपुर स्थित दारुल उलूम देवबंद की और से शियाओं के खिलाफ इफ्तार को लेकर जारी किए गए फतवे का दिल्ली के मुस्लिम नौजवानों ने जवाब देने का फैसला किया है।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली की संस्था शोल्डर टू शोल्डर ने एवान-ए-शाही रेस्तरां में रविवार  को यानि आज शाम को इफ्तार का आयोजन किया है। जिसमे शिया-सुन्नी साथ में इफ्तार करेंगे। इतना ही नहीं शिया-सुन्नी एक साथ ही नमाज भी पढ़ेंगे।

इफ्तार की तैयारी कर रहे इर्तजा कुरैशी ने नवभारत टाइम्स को बताया की , पता नहीं फतवा सच है या नहीं, अगर ऐसा कुछ फतवा आता भी है तो हम उसके खिलाफ हैं। घर में शौहर-बीवी, भाई, बहन, मां-बाप सबकी अलग-अलग राय होती है। इसका मतलब ये नहीं कि जिनकी राय अलग है, वो आपस में दुश्मनी पाल लें। एक दूसरे से नफरत करें।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि सहारनपुर स्थित मोहल्ला बड़जिया उलहक निवासी सिकंदर अली ने दारुल उलूम में स्थित फतवा विभाग के मुफ्तियों से लिखित में सवाल किया था कि शिया हजरात रमजान-उल-मुबारक में रोजा इफ्तार की दावत करते हैं, क्या सुन्नी मुसलमान का इसमें शरीक होना जायज है? जबकि दूसरे सवाल में पूछा है कि शिया हजरात के यहां शादी वगैरह के मौके पर जाना और वहां खाना कैसा है?

इस सवाल के जवाब में दारुल उलूम के तीन मुफ्तियों ने कहा कि दावत चाहे इफ्तार की हो या फिर शादी की शियाओं की दावत में सुन्नी मुसलमानों को खाने पीने से परहेज करना चाहिए।

Loading...