देश की राजधानी दिल्ली में रविवार के बाद से जारी मुस्लिम विरोधी हिंसा में अब तक 34 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। गुरुवार सुबह गुरु तेग बहादुर अस्पताल की ओर से नया आंकड़ा जारी किया गया है। अस्पताल के अनुसार, अबतक दिल्ली हिंसा में 34 लोगों की मौत हो गई है।

वहीं अब तक तीन मस्जिदों को भी निशाना बनाया गया है। उत्तर पूर्वी दिल्ली के अशोक नगर इलाके में एक मस्जिद की मीनार पर जय श्री राम लिखा भगवा झंडा लगाया गया। उस झंडे से थोड़ा नीचे एक तिरंगा भी लगाया गया। दंगाइयों ने मस्जिद में तोड़ फोड़ की और उसमें आग लगा दी।

इसके अलावा अशोक नगर में दोपहर 3 बजे के करीब दो मस्जिदों को निशाना बनाया गया। दोनों मस्जिदों के बीच एक किलोमीटर का फासला है। वहीं अशोक नगर से दो किलोमीटर दूर बृजपुरी में एक और मस्जिद को दंगाइयों ने उजाड़ दिया और आग लगा दी।

एन के शर्मा नाम के एक स्थानीय बुजुर्ग ने बताया “पहले उन्होंने मस्जिद पर पथराव किया और फिर उसके द्वार खोल दिए, मीनारों पर चढ़ गए और झंडे लगाए और आखिर में उन्होंने इमारत को आग लगा दी। सौभाग्य से मस्जिद में और उसके आसपास रहने वाले लोगों को पहले ही वहां से हटा दिया गया था।”

परवीन नाम की एक निवासी ने बताया ““हमें मस्जिद पर हमला होने पर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। शाम को भीड़ वापस आई और आभूषणों सहित हमारे सभी कीमती सामानों को लूट कर चली गई। मेरी बेटी के प्रमाण पत्र, जिसमें उसके एडमिट कार्ड भी शामिल हैं, जला दिया गया है।”

परवीन के पति मोहम्मद राशिद ने बताया कि जिस परिसर से मस्जिद का संचालन हो रहा था, वह किराए पर था। सभी कमरे जल कर राख़ हो गए थे और उनमें से धुआं निकाल रहा था। बिस्तर, गद्दे, छत के पंखे और बाल्टियाँ, बिखरी और आधी जली हुई थीं।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन