jnu-protest

नई दिल्ली | पिछले दो महीने से लापता छात्र नजीब अहमद का कोई सुराग नही मिला है. फ़िलहाल दिल्ली पुलिस पुरे दल बल के साथ नजीब को ढूँढने में लगी हुई है लेकिन उसको कुछ पता नही चल रहा है. सोमवार से दिल्ली पुलिस ने जेएनयु कैंपस में सर्च ऑपरेशन चलाया. यह ऑपरेशन आज भी जारी रहा. इस सर्च ऑपरेशन में 600 पुलिस कर्मी लगे हुए है.

हाई कोर्ट की फटकार के बाद दिल्ली पुलिस हरकत में दिखाई दी. नजीब अहमद को ढूँढने के लिए दिल्ली पुलिस 600 कर्मी और खोजी कुत्तो के साथ जेएनयु कैंपस पहुंची. इनके अलावा पुलिस के कई आला अधिकारी भी कैंपस में डेरा जमाये हुए है. पुलिस को आशंका थी की कैंपस में पुलिस को भारी विरोध का सामना करना पड़ सकता है, इसी वजह से पुलिस भारी सुरक्षाकर्मीयो के साथ कैंपस पहुंची.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सोमवार को पुलिस ने खोजी कुत्तो के साथ करीब 60 फीसदी कैंपस को सर्च किया. उम्मीद है की आज पूरा कैंपस सर्च कर लिया जाएगा. खोजी कुत्तो को साथ लाने के सवाल पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया की किसी भी अनहोनी को देखते हुए खोजी कुत्ते इस ऑपरेशन में इस्तेमाल किये गए. लेकिन कुत्तो के रेस्पोंस को देखते हुए कहा जा सकता है की हमारी आशंका गलत है.

मालूम हो की जेएनयु कैंपस का आधा हिस्सा जंगल से सटा हुआ है. नजीब की माँ , फातिमा और छात्र संगठन पहले से मांग करते आये है की नजीब को पास के जंगलो में ढूँढा जाए लेकिन पुलिस ने जंगल को सर्च नही किया. जब हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को मामले में ढील बरतने को लेकर फटकार लगाई, इसके बाद दिल्ली पुलिस ने नजीब को जंगल में ढूँढने का फैसला किया.

सर्च ऑपरेशन के बारे में पूछने पर पुलिस ने बताया की फ़िलहाल नजीब को को सुराग नही मिला है. हम अभी भी बाकी बचे कैंपस को सर्च कर रहे है. मालूम हो की नजीब अहमद 15 अक्टूबर से जेएनयु कैंपस से लापता है. जेएनयु के छात्र संगठनो का आरोप है की लापता होने से पहले नजीब की ABVP के कुछ लडको के साथ हाथापाई हुई थी.

Loading...